चीन और डब्ल्यूएचओ के खिलाफ अमेरिका का बड़ा एक्शन

वाशिंगटन :  अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ और चीन के खिलाफ बड़ा एक्शन लेते हुए जहां डब्ल्यूएचओ से संबंध खत्म कर रहा है वहीं चीनी छात्रों को अमेरिका में आने के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ अपने संबंधों को समाप्त कर रहा है क्योंकि उसने दुनिया भर में कोविड-19 महामारी के कारण हुई मौतों और विनाश के लिए इसे और चीन को जिम्मेदार ठहराया। यह बताते हुए कि डब्लूएचओ को मिलने वाला फंड अब अन्य वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठनों को दिया जाएगा। साथ ही ट्रम्प ने चीन के खिलाफ कई फैसलों की घोषणा की जिसमें कुछ चीनी नागरिकों को प्रवेश देने से इनकार करना और अमेरिका में चीनी निवेशों के खिलाफ नियमों को कड़ा करना शामिल है।
चीनी छात्रों के प्रवेश पर लगाया प्रतिबंध
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से संबंध रखने वाले चीन के छात्रों और शोधकर्ताओं के देश में प्रवेश पर रोक लगाने की घोषणा की है। उन्होंने अमेरिका से बौद्धिक संपदा और प्रौद्योगिकी हासिल करने के लिए स्नातक छात्रों का इस्तेमाल करने की चीन की कोशिशों को खत्म करने के लिए यह कदम उठाया है। व्यापार, कोरोना वायरस की उत्पत्ति, हांगकांग में बीजिंग की कार्रवाई और विवादित दक्षिण चीन सागर में चीन की आक्रामक सैन्य गतिविधियों को लेकर अमेरिका और चीन में बढ़ती तनातनी के बीच ट्रम्प ने यह घोषणा की है।

अमेरिकी लोगों की सुरक्षा के लिए खतरा

इस संबंध में शुक्रवार को घोषणा करते हुए ट्रम्प ने कहा कि चीन ने अपनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के आधुनिकीकरण के लिए संवदेनशील अमेरिकी प्रौद्योगिकियों और बौद्धिक संपदा को हासिल करने के लिए व्यापक अभियान चलाया हुआ है। उन्होंने कहा कि चीन की यह गतिविधि अमेरिका की दीर्घकालीन आर्थिक शक्ति और अमेरिकी लोगों की सुरक्षा के लिए खतरा है। ट्रम्प ने आरोप लगाया कि चीन अपने कुछ छात्रों ज्यादातर परास्नातक और शोधकर्ताओं का इस्तेमाल बौद्धिक संपदा को एकत्रित करने के लिए करता है इसलिए पीएलए से जुड़े चीनी छात्रों या शोधकर्ताओं के चीनी अधिकारियों के हाथों इस्तेमाल होने का अधिक जोखिम है और यह चिंता का सबब है। उन्होंने कहा, ‘‘इसे देखते हुए मैंने फैसला किया कि अमेरिका में पढ़ाई या शोध करने के लिए ‘एफ’ या ‘जे’ वीजा मांगने वाले कुछ चीनी नागरिकों का प्रवेश अमेरिका के हितों के लिए खतरनाक होगा।’’ चीन ने अमेरिका में उसके छात्रों पर प्रतिबंध लगाने की ट्रम्प की धमकी को शुक्रवार को नस्लवादी बताया था।
दुनिया को चीन से जवाब चाहिए
ट्रंप ने व्हाइट हाउस के रोज गार्डन से एक भाषण में कहा, “दुनिया को चीन से जवाब चाहिए।” राष्ट्रपति ने, हालांकि, कोई सवाल नहीं उठाया। ट्रंप ने चीन के खिलाफ अपने आरोपों को दोहराते हुए कहा। चीन ने न केवल बौद्धिक संपदा की चोरी की, अमेरिका से अरबों डॉलर छीन लिए और नौकरियों को बंद कर दिया, बल्कि विश्व व्यापार संगठन के तहत अपनी प्रतिबद्धता का भी उल्लंघन किया।
गैरकानूनी रूप से दावा
उन्होंने आरोप लगाया कि चीन ने इंडो-पैसिफिक महासागर में गैरकानूनी रूप से दावा किया है, नेविगेशन और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की स्वतंत्रता को खतरा है और हांगकांग की स्वायत्तता सुनिश्चित करने पर दुनिया के लिए अपने शब्द को तोड़ दिया है। उन्होंने कहा, ‘संयुक्त राज्य अमेरिका चीन के साथ एक खुला और रचनात्मक संबंध चाहता है, लेकिन इस रिश्ते को प्राप्त करने के लिए हमें अपने राष्ट्रीय हितों की सख्ती से रक्षा करने की आवश्यकता है।’
इन सारे तथ्यों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता
ट्रम्प ने आरोप लगाया कि चीनी सरकार ने अमेरिका और कई अन्य राष्ट्रों को अपने वादों का लगातार उल्लंघन किया है। ट्रंप ने कहा, “इन सादे तथ्यों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।’ यह देखते हुए कि दुनिया अब चीनी सरकार की नाकामी के कारण वायरस से पीड़ित है। ट्रम्प ने दोहराया कि चीन के वुहान वायरस के कवर-अप ने दुनिया भर में बीमारी फैलने की अनुमति दी। उन्होंने आगे कहा, ‘चीनी अधिकारियों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए अपने रिपोर्टिंग दायित्वों को नजरअंदाज कर दिया और विश्व स्वास्थ्य संगठन पर दुनिया को गुमराह करने का दबाव डाला जब वायरस पहली बार चीनी अधिकारियों द्वारा खोजा गया था। इस वायरस से न जाने कितनी मौतें हुई पूरी दुनिया में आर्थिक संकट उभर आया।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी खबर : नेपाल ने बैन किए भारतीय न्यूज चैनल

नई दिल्ली/काठमांडु : चीन की शह पर भारत से दुश्मनी पाल रहे नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के इशारे पर नेपाल ने बड़ा कदम उठाते आगे पढ़ें »

बिकरू कांड : गैंगस्टर विकास दुबे यूपी एसटीएफ के हवाले

उधुर, उज्जैन पुलिस ने दावा किया - विकास दुबे को हमने गिरफ्तार किया उज्जैन/लखनऊ : कानपुर के बिकरू गांव में 8 पुलिसवालों की जान लेने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर