चीन ने बनाई विश्व की पहली सशस्त्र पानी व जमीन पर चलने वाली ड्रोन बोट

पेइचिंगः चीन ने विश्व की पहली सशस्‍त्र उभयचर पानी एवं जमीन पर चलने वाली ड्रोन बोट बना ली है। उसने इसका परीक्षण भी किया। चीनी सैन्य विश्लेषकों का मानना है कि यह जमीन पर वार करने के अभियानों के लिए उपयोगी है और हवाई ड्रोनों एवं अन्य ड्रोन पोतों के साथ मिलकर यह युद्ध में त्रिकोण बना सकने में सक्षम है। सरकारी समाचार पत्र ने सोमवार को खबर दी कि चीन शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन (सीएसआईसी) के तहत आने वाले वुचांग शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री ग्रुप द्वारा निर्मित ‘मरीन लिजर्ड’ नामक इसने अपनी जांच सफलतापूर्वक पार की और वुहान में 8 अप्रैल को फैक्ट्री से बाहर आई।
12 मीटर लंबी है ड्रोन
पोत के रूप में विकसित 12 मीटर लंबी मरीन लिजर्ड तीन समांतर भागों वाली एक नाव है जो डीजल से चलने वाले हाइड्रोजेट की मदद से आगे बढ़ती है। यह रडार से बच निकलते हुए अधिकतम 50 नॉट की गति तक पहुंच सकती है। खबर में अज्ञात अधिकारी के हवाले से कहा गया कि जमीन पर पहुंचने के करीब यह उभयचर ड्रोन नौका अपने अंदर छिपी चार ट्रैक इकाइयों को बाहर निकाल सकती है और जमीन पर प्रति घंटे 20 किलोमीटर की रफ्तार से चल सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका व चीन के बीच बढ़ते तनाव से दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के कारण अमेरिका का काफी नुकसान हुआ है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को लेकर लगातार आक्रामक रुख आगे पढ़ें »

बंगाल में कोरोना का कहर एक दिन में आए 183 नये मामले

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के ​लिए लागू लॉकडाउन के 64वें दिन बुधवार को बंगाल में पिछले 24 घंटे में 183 लोगों के आगे पढ़ें »

ऊपर