कैट ने चीनी सामान आयात के जरिये हवाला कारोबार का संदेह जताया, जांच की मांग

नई दिल्ली : चीन से आने वाले सामानों की खरीद के लिये भारी मात्रा में हवाला के जरिये लेन-देन की आशंका जताते हुये कंफेडेरशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने चिंता जाहिर करते जांच की मांग की है। कैट ने इसके साथ ही हवाला का पैसा पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों तक पहुंचने पर भी संदेह व्यक्त किया है।
अधिकारियों की मिलीभगत का आरोप
कैट ने सरकार से पूरे मामले की गंभीरता से जांच की कर दोषियों को पकड़ने की बात कहते हुये भारतीय बंदरगाह के अधिकारियों की मिलीभगत का भी आरोप लगाया है। उसका कहना है कि चीनी से आयात होने वाले सामान का बिल उसकी लागत से भी कम कर आता है जिससे कस्टम ड्यूटी और आईजीएसटी की चोरी होती है जिससे सरकार को मिलने वाले राजस्व में नुकसान उठाना पड़ रहा है।
कड़ी निगरानी की आवश्यकता
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और सेक्रेटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल की माने तो चीन से आयातित ज्यादातर सामानों का मूल्य बिल में काफी कम दर्शाया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि माल और बिल में लिखे माल का मिलान किया जाए तो पता लगेगा दोनों में कितना फर्क है। उन्होंने कहा कि इसे ध्यान में रखते हुए भारतीय बंदरगाहों पर चीन से आने वाले सामान पर कड़ी निगरानी की आवश्यकता है।
देश की सुरक्षा के लिए भी एक बड़ा सवाल
चीनी सामान के खरीद में हवाला कारोबार की आशंका जताते हुये भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि इस मामले में सामान आयात करने वालों के साथ विभिन्न विभागों के अधिकारियों की मिलीभगत होती है, जिसके कारण लंबे अर्से से यह व्यापार बड़ी सुगमता के साथ चल रहा है। उन्होंने कहा कि यह न केवल भारतीय बाजार को खराब कर रहा है बल्कि देश की सुरक्षा के लिए भी एक बड़ा सवाल बन गया है।
बिना बिल के सारा माल बेच दिया जाता है
उन्होंने कहा कि चीनी सामान को पर कायदे से आईजीएसटी इनपुट क्रेडिट नहीं लिया जाता है यदि गहरायी से मामले की जांच हो तो पता चलेगा कि किसी ने इनपुट क्रेडिट क्लेम ही नहीं किया क्योंकि बिना बिल के सारा माल बाजार में बेच दिया जाता है। यही कारण है कि चीनी माल घरेलू उत्पाद की तुलना में सस्ते रहते हैं।
ऐसे सामने आयेगा सच
कैट अध्यक्ष का कहना है कि देश की सुरक्षा से जुड़े इस मामले के व्यापक जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि सरकार चीन से आने वाले माल को उसकी घोषित कीमत से 50 फीसदी अधिक पर नीलाम करे तो इस खेल का सारा सच सामने आ जाएगा। बता दें कि हवाला कारोबार आतंकियों की फंडिंग का बड़ा जरिया है और यह बात कई बार सामने भी आ चुकी है। ऐसे में सरकार को आतंकवाद से लड़ने के लिये चीन से आयात होने वाले सामानों के लेन-देन पर कड़ी निगाह रखनी चाहिये।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

ईवीएम-वीवीपैट के मिलान को लेकर 21 विपक्षी दल पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : ईवीएम-वीवीपैट के 50 प्रतिशत मिलान को लेकर आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व में 21 दलों ने सुप्रीम कोर्ट का रूख किया। बुधवार को एक समीक्षा याचिका दायर की। गौरतलब है कि 14 अप्रैल [Read more...]

नौकरी न मिलने से परेशान सुमित ने पत्नी और 3 बच्चों की कर दी हत्या

नई दिल्ली : तीन बच्चों और पत्नी की हत्या करने वाले आरोपी सुमित की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने कई बड़े खुलासे किए हैं। जानकारी के मुताबिक सुमित उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के रहने वाले थे और पेशे [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

ऊपर