चीनी जंगी जहाजों की मौजूदगी से सिडनी हार्बर में हड़कम्प

कैनबरा : ऑस्ट्रेलिया के सिडनी हार्बर में तीन चीनी जंगी जहाजों की मौजूदगी से वहां हड़कम्प मच गया। एक हालिया रिपोर्ट के में सामने आया था कि विवादित दक्षिण चीन सागर में गश्त लगा रही ऑस्ट्रेलियाई नौसेना का चीनी नौसेना से आमना-सामना हो गया था। ‌रिपोर्ट में यह भी सामने आया था कि इस दौरान ऑस्ट्रलियाई पायलटों को लेजर के निशाने पर रखा गया था। रिपोर्ट के सामने आने के बाद सोमवार सुबह अचानक 700 नौसैनिकों के साथ तीन चीनी युद्धपोत के सिडनी हार्बर के करीब पहुंचने का पता चलते ही तनाव ‌की स्थि‌ति पैदा हो गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री को बयान जारी करना पड़ा।
प्रधानमंत्री ने बयान जारी किया
आईलैंड के दौरे पर गए प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन सोलोमन को जैसे ही चीनी जंगी जहाजों के सिडनी हार्बर पहुंचने और वहां पैदा हुए तनाव की जानकारी मिली उन्होंने तत्काल मामले की गंभीरता देखते हुए बयान जारी किया। उन्होंने अपने बयान में कहा कि यह आम लोगों के लिए चौंकाने वाली बात हो सकती है, लेकिन सरकार को इस बारे में पता था। मॉरिसन ने कहा कि हाल ही में ऑस्ट्रेलियाई पोत चीन गए थे। ऐसे में यह चीन का पारस्परिक दौरा था। उसके युद्धपोत मध्यपूर्व (मिडिल ईस्ट) से ड्रग ट्रैफिकिंग ऑपरेशन के बाद लौटे थे।
एंटी सबमरीन मिसाइल सिस्टम से लैस
संवाददाताओं के अनुसार, जिन युद्धपोतों को हार्बर में देखा गया उनमें एक युझाओ क्लास का लैंडिंग शिप, एक लुओमा क्लास का शिप और एक एंटी सबमरीन मिसाइल सिस्टम से लैस शुचांग क्लास का आधुनिक जहाज भी शामिल है।
पहली बार भेजा गया तीन युद्धपोत
विशेषज्ञ इन तीनों युद्धपोतों के ऑस्ट्रेलिया दौरे के समय पर सवाल उठा रहे हैं। ऑस्ट्रेलियाई नेशनल यूनिवर्सिटी के सिक्योरिटी कॉलेज के हेड रोरी मेडकाफ का कहना है कि आमतौर पर चीन अब तक यहां सिर्फ एक युद्धपोत ही भेजता रहा है। लेकिन 700 नौसैनिकों की टास्क फोर्स को तीन युद्धपोतों में भेजने का मामला पहली बार सामने आया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सरकार के राहत देने के बाद भी टैरिफ बढ़ाए बिना टेलीकॉम कंपनियों का गुजारा नहीं

नई दिल्ली : लगातार घाटे में चल रही टेलीकॉम कंपनियों को सरकार ने राहत दिया है, लेकिन फिर भी  टैरिफ बढ़ाए बिना कंपनियों की वित्तीय आगे पढ़ें »

2025 तक पांच लाख करोड डॉलर की इकोनॉमी का लक्ष्य प्राप्त करना संभव नहीं : पूर्व गवर्नर सी रंगराजन

नई दिल्ली : देश के 200 से अधिक अर्थशास्त्री और शिक्षाविदों ने सरकार पर आर्थिक आंकड़े जारी करने को कहा है। अर्थशास्त्री के समूह ने आगे पढ़ें »

ऊपर