खून-पसीने से मापा जा सकेगा तनाव का स्तरः अध्ययन

वाशिंगटनः वैज्ञानिकों ने अध्ययन किया है। इसमें नयी जांच विकसित की है जो पसीना, खून, मूत्र या लार के जरिए सामान्य तनाव को आसानी से माप सकती है। तनाव को अक्सर ‘साइलेंट किलर’ कहा जाता है क्योंकि इसका असर हृदय रोग से लेकर मानसिक स्वास्थ्य तक पर पड़ता है। अमेरिका के सिनसिनाटी यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों को उम्मीद है कि नयी जांच के जरिए रोगी घर पर ही इस उपकरण का इस्तेमाल कर सकेंगे। विश्वविद्यालय के प्रोफेसेर एंड्रीयू स्टेकल ने कहा, ‘‘हालांकि यह आपको सभी सूचना नहीं देगा लेकिन आपको बताएगा कि क्या आपको किसी डॉक्टर की जरूरत है।’’
ऐसे काम करेगा
दरअसल, वैज्ञानिकों ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो खून, पसीना, मूत्र या लार में मौजूद तनाव को हार्मोन की पराबैंगनी किरणों के जरिए माप करेगा। हालांकि, अमेरिकन केमिकल सोसाइटी सेंसर जर्नल में इस उपकरण के बारे में बताया गया है कि यह लैबोरेट्री में होने वाली रक्त जांच की जगह नहीं लेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए बैंकों ने किया विचार-मंथन

नयी दिल्लीः अगले पांच साल में देश को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में मदद के लिए बैंकिंग क्षेत्र को और अधिक मजबूत आगे पढ़ें »

बासुकीनाथ में अब पूजा अर्चना के लिए बनेंगे आजीवन दाता कार्ड

दुमका : दुमका जिले में बाबा बासुकीनाथ धाम मंदिर न्यास समिति ने आजीवन दाता कार्ड सदस्य बनाने का निर्णय लिया है। समिति ने रविवार को आगे पढ़ें »

आतंकवादियों को अलग-थलग करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है कश्मीर पुलिस : डीजीपी

flood

हिमाचल : बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से 8 लोगों की मौत, प्रदेश के 323 सड़के क्षतिग्रस्त

Gun-shot 1

आरपीएफ जवान ने गोलीमार कर की रेलकर्मी समेत उसकी पत्नी और पुत्री की हत्या

saho

इस फिल्‍म के नए पोस्टर में दिखी प्रभास और श्रद्धा कपूर की लव केमिस्ट्री

rajnath

रक्षामंत्री ने पाक को दी चेतावनी, पीओके के अलावा किसी दूसरे विषय पर बातचीत नहीं होगी

जियो फाइबर ब्रॉडबैंड अगले महीने होगी लॉन्च, जानिए प्लान्स

एफपीआई से लगातार निकासी जारी, अबतक घरेलू पूंजी बाजार से 8,319 करोड़ रुपये की निकासी

पूर्व मुख्यमंत्री पर लगा फोन टैपिंग का आरोप, येदियुरप्पा बोले- होगी सीबीआई जांच

ऊपर