कोरोना का जन्म स्थान वुहान 76 दिन के लॉकडाउन के बाद खुला

बीजिंग/वुहान : दुनियाभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण महामारी का जन्म स्थान वुहान 76 दिन के बाद बुधवार को लॉकडाउन फिर से लोगों के आने-जाने के लिए खत्म हो गया है। हालांकि देश में कोविड-19 के नए मामलों की संख्या 1,000 के पार पहुंच गई है और दो संक्रमित लोगों की मौत भी हो चुकी है जिसके साथ ही यहां संक्रमण के फिर से फैलने की आशंका बढ़ गई है। चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि मंगलवार को चीनी भूभाग पर कोविड-19 के 62 नए मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें से 59 मामले ऐसे हैं जिनमें लोग विदेश से लौटे हैं। कुल मामले 1,042 हो गए।
1,095 मामलों पर रखी जा रही है निगरानी
राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि तीन नए घरेलू मामले भी सामने आए हैं जिनमें दो शानडोंग प्रांत और एक गुआंगडोंग प्रांत से है। मंगलवार को कोविड-19 के ऐसे 137 मामले सामने आए जिनमें मरीजों में इस संक्रमण के कोई लक्षण नहीं थे। आयोग ने बताया कि ऐसे 1,095 मामलों पर निगरानी रखी जा रही है। इस तरह के मामलों को एसिम्टोमेटिक कहा जाता है। इन मामलों में मरीज में संक्रमण का कोई लक्षण नहीं होता लेकिन जांच में उनमें वायरस संक्रमण की पुष्टि होती है। इस तरह के संक्रमित लोग बड़ी संख्या में अन्य लोगों को संक्रमित कर सकते हैं।
मरने वाले लोगों की संख्या 3,333
आयोग ने कहा कि मंगलवार को संक्रमण से दो लोगों की मौत हो गई जिनमें से एक व्यक्ति की शंघाई में और एक अन्य की हुबेई प्रांत में मौत हुई, इसके साथ ही देश में संक्रमण के कारण मरने वाले लोगों की संख्या 3,333 हो गई। सोमवार को ऐसा पहली बार हुआ था जब कोविड-19 के कारण कोई मौत नहीं हुई थी। जनवरी से आयोग कोविड-19 के बारे में नियमित रिपोर्ट दे रहा है। चीनी मुख्यभूमि पर मंगलवार तक कुल पुष्ट मामलों की संख्या 81,802 हो गई जिनमें 1,190 मरीज ऐसे हैं जिनका उपचार चल रहा है, 77,279 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 3,333 लोगों की रोग से मौत हो गई।
बाहर आने-जाने की मिली अनुमति
वुहान में लॉकडाउन को देखते हुए ही दुनिया के कई देशों ने इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन का यही मॉडल अपनाया था। अधिकारियों ने वुहान के लोगों को बाहर आने-जाने की इजाजत दे दी है। बुधवार की मध्य रात्रि से लॉकडाउन खत्म होने के बाद शहर के 1.1 करोड़ लोगों को अब कहीं भी आने जाने के लिए विशेष अनुमति की जरूरत नहीं होगी बशर्ते अनिवार्य स्मार्ट फोन एप्लिकेशन में यह पता चलता हो कि वे स्वस्थ हैं और किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए हैं। इस मौके पर यांगतेज नदी के दोनों ओर लाइट शो हुआ, गगनचुंबी इमारतों और पुलों पर ऐसी छवियां तैर रहीं थीं जिनमें स्वास्थ्यकर्मी मरीजों को ले जाते हुए दिख रहे थे, तो कहीं वुहान के लिए ‘हीरोइक सिटी’ शब्द दिख रहे थे। तटबंधों और पुलों पर नागरिक झंडे लहरा रहे थे और ‘वुहान आगे बढ़ो’ के नारे लगा रहे थे तथा चीन का राष्ट्रगान गा रहे थे।
जश्न मनाने के लिए दी अखबार को चेतावनी
एक व्यक्ति तोंग झेंगकुन ने कहा, ‘मुझे बाहर निकले 70 दिन से भी ज्यादा वक्त हो गया।’ वह जिस इमारत में रहते थे वहां संक्रमित व्यक्ति मिले थे जिसके बाद से पूरी इमारत को बंद कर दिया गया था। सड़कों पर गाड़ियां उतर आईं, सैकड़ों लोग शहर से बाहर जाने के लिए ट्रेनों और विमानों का इंतजार करते दिखे तो कई लोग नौकरी पर जाने को बेताब नजर आए। चीन के कोविड-19 के 82,000 मामलों में से अधिकांश वुहान में थे। सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने इतनी जल्दी जश्न मनाने के खिलाफ चेतावनी दी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना संक्रमण के आए अब तक के सबसे अधिक मामले

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के ​लिए लागू लॉकडाउन के 70वें दिन मंगलवार को बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण आगे पढ़ें »

आधुनिक क्रिकेट में विराट-रोहित की जोड़ी नंबर-1 : संगकारा

नयी दिल्‍ली : श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमारा संगकारा ने कहा कि क्रिकेट के हर युग में एक बेहतरीन जोड़ी देखने को मिलती है। इस आगे पढ़ें »

ऊपर