ऑस्ट्रेलिया में आम चुनाव आज, वोट ना डालने पर लगता है जुर्माना

मेलबर्नः ऑस्ट्रेलिया में शनिवार को अगले प्रधानमंत्री के चयन के लिए आम चुनाव हुए। जहां दुनियाभर के लोकतंत्रों में मतदान प्रक्रिया जनता की भागीदारी पर निर्भर है, वहीं ऑस्ट्रेलिया में अनिवार्य मतदान का प्रावधान है। यानी नागरिकों के लिए मतदान करना जरूरी है वरना उन पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इस बार के चुनाव में जलवायु परिवर्तन का मुद्दा छाया रहा। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में हर तीन साल में आम चुनाव होते हैं।

क्या कहता है एग्जिट पोल?

एग्जिट पोल में विपक्षी लेबर पार्टी जीत की ओर बढ़ती दिख रही है। देशभर में पांच सप्ताह तक चले चुनाव प्रचार अभियान के बाद करीब 1.6 करोड़ ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों ने अपनेे मताधिकार का प्रयोग किया। देश के पूर्व में मतदान केंद्रों के बंद होने से पहले सर्वेक्षण में मध्य-वाम लेबर पार्टी जीत की ओर बढ़ रही है और लिबरल पार्टी के नेतृत्व वाला गठबंधन तीन साल के कार्यकाल के लिए हारते हुए दिख रहा है। सर्वेक्षण में दिख रहा है कि लेबर पार्टी लिबरल गठबंधन को मात देते हुए 151 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में 82 सीटें जीत सकती है। जलवायु परिवर्तन पर सरकार की निष्क्रियता दोनों पार्टियों के बीच असली अंतर पैदा करने वाली साबित हो सकती है।

1924 में बना अनिवार्य मतदान का नियम

सरकार ने 1924 में यहां अनिवार्य मतदान का नियम बनाया था। तब से कभी भी यहां 91 प्रतिशत से कम मतदान नहीं हुआ। साल 1994 में तो सबसे ज्यादा 96.22 प्रतिशत वोटरों ने मतदान किया था। सरकार का मानना है कि वोटिंग अनिवार्य होने से लोग राजनीति और सरकार के कार्यों में रुचि लेते हैं और साथ ही सक्रिय होकर वोटर बनने के लिए पंजीकरण कराते हैं। ऑस्ट्रेलिया में 18 या उससे अधिक उम्र के नागरिकों को वोटिंग का अधिकार है।

मतदान नहीं करने पर जुर्माना

ऑस्ट्रेलिया में मतदान के लिए रजिस्ट्रेशन और मतदान करना दोनों ही कानूनी कर्तव्यों में शमिल है। मतदान नहीं करने पर सरकार वोटर से जवाब मांगती है। संतोषजनक जवाब या उचित कारण नहीं मिलने पर 20 डॉलर यानि करीब 1000 रुपये का जुर्माना लगाती है। इसके अलावा कोर्ट के चक्कर भी काटने पड़ सकते हैं। इस नियम का कुछ संगठन विरोध भी करते हैं। वे कहते हैं कि यह लोकतंत्र के मूलभूत आधार मतलब आजादी के खिलाफ है। इस नियम के समर्थक कहते हैं कि सरकार चुनने में जनता की भागीदारी अहम होनी चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बेकाबू होता जा रहा है डेंगू, और 2 की मौत

अब तक 19 मरे, साढ़े 11 हजार लोग पीड़ित सन्मार्ग संवादाता कोलकाता : डेंगू का कहर दिन ब दिन बेकाबू होता जा रहा है। रविवार को डेंगू आगे पढ़ें »

mamata banerjee

आज केन्द्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मियों को सम्बोधित करेंगी ममता

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज सोमवार को नेताजी इंडोर स्टेडियम में केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मचारियों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करेंगी। इन आगे पढ़ें »

ऊपर