इजरायल ने आतंकवाद से रक्षा के लिए भारत को बिना शर्त मदद की पेशकश की

नयी दिल्ली : इजरायल ने भारत को आतंकवाद से अपना बचाव करने के लिए बिना शर्त मदद करने की पेशकश करते हुये कहा है कि उसकी सहायता की ”कोई सीमा नहीं है।” इजरायल का यह आश्वासन इस बढ़ती मांग की पृष्ठभूमि में खासा महत्वपूर्ण है कि सरकार आतंकी हमलों से निपटने की इजरायली पद्धति पर विचार करें। भारत में इजरायल के नवनियुक्त राजदूत डॉ. रॉन मलका की यह टिप्पणी उस सवाल के जवाब में आयी कि उनका देश आतंकवाद से पीड़ित भारत की किस सीमा तक मदद कर सकता है।
मलका ने पिछले हफ्ते के शुरू में एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘भारत को अपनी रक्षा के लिए जो आवश्यकता है, उसकी कोई सीमा नहीं है। हम अपने करीबी मित्र भारत को विशेष तौर पर आतंकवाद के खिलाफ बचाव करने में मदद करने के लिए तैयार हैं क्योंकि आतंकवाद विश्व की समस्या है, न कि सिर्फ भारत और इजरायल की।”

अपने महत्वपूर्ण मित्र की मदद करना चाहते हैं
उन्होंने जोर दिया कि दुनिया को सहयोग कर आतंकवाद से लड़ना चाहिए और इसे खत्म करना चाहिए। उन्होंने कहा, ”इसलिए, हम भारत की मदद करते हैं, अपनी जानकारी साझा करते हैं, अपनी तकनीक साझा करते हैं क्योंकि हम वास्तव में अपने महत्वपूर्ण मित्र की मदद करना चाहते हैं।”

पाकिस्तान के साथ राजनयिक संबंध नहीं
इजरायल की सैन्य सेवा में रह चुके 52 वर्षीय मलका ने कहा कि प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने उन्हें बताया कि भारत एक ”महत्वपूर्ण साथी, बहुत महत्वपूर्ण दोस्त है तथा वह संबंधों को और मजबूत बनाने के लिए सहयोग करना चाहते हैं, अपनी जानकारी साझा करने के लिए।” राजदूत ने कहा कि उनके देश का पाकिस्तान के साथ राजनयिक संबंध नहीं हैं और इसलिए उनके साथ किसी गतिविधि में द्विपक्षीय बातचीत नहीं होती।

वैश्विक स्थिरता में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका
उन्होंने कहा कि भारत को मजबूत करके, इजरायल वैश्विक स्थिरता में योगदान दे रहा है क्योंकि वैश्विक स्थिरता में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका है। ”हम सिर्फ विश्व को जीने के लिए एक बेहतर जगह बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं…”

आतंकी हमले में आईएसआई शामिल थी
भारत लगातार कहता रहा है कि पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी आईएसआई शामिल थी। पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने 14 फरवरी के हमले की जिम्मेदारी ली है। यह संगठन संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित है।
गौरतलब है कि इजरायली सेना अपनी सटीक और त्वरित कार्रवाई के लिए दुनिया में मशहूर है। पिछले दिनों जम्मू कश्मीर में हुये आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे‌ जिसके बाद यह मांग जोर पकड़ रही है कि सरकार को आतंकवाद के खिलाफ अभियान में इजरायल द्वारा अपनाए जाने वाले तरीकों पर गौर करना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

murshidabad

5 मिनट में उसने शिक्षक समेत तीनों को उतारा था मौत के घाट !

कोलकाता : मुर्शिदाबाद में तीहरे हत्याकांड की गुत्थी आखिरकार पुलिस ने सुलझा ली है, ऐसा दावा है पुलिस का। इस मामले में पुलिस ने मुख्य आगे पढ़ें »

मौका मिले तो आठवां ओलंपिक खेलना चाहूंगा : पेस

मेलबोर्न : भारत के लीजेंड टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस के दिल में आठवां ओलंपिक खेलने की लालसा बरकरार है और यदि उन्हें मौका मिलता है आगे पढ़ें »

महिला क्रिकेट रैंकिंग : स्मृति मंधाना ने गंवाया पहला स्थान, मिताली की लंबी छलांग

डेनमार्क ओपन : सिंधू व प्रणीत डेनमार्क ओपन के दूसरे दौर में पहुंचे

आदिल के गोल से भारत ने बांग्लादेश को बराबरी पर रोका

Praful Patel

ईडी ने प्रफुल्ल पटेल को भेजा समन, इकबाल मिर्ची की बिल्डिंग में है फ्लैट

Car crash

उत्तराखंड : कार खाई में गिरी, परिवार के तीन सदस्याें समेत पांच की मौत

Sonali Phogat

सबसे ज्‍यादा सर्च की जाने वाली हरियाणा की नेता बन गई हैं सोनाली,खट्टर और हुड्डा को छोड़ा पीछे

train

दैनिक रेलयात्रियों के लिए 12 नयी पैसेंजर ट्रेनें चलेंगी

afghan

अफगानिस्तान में चुनाव प्रचार के दौरान हिंसा में 85 आम लोग मारे गए, 373 घायल : संयुक्त राष्ट्र

ऊपर