इंडोनेशिया ने रामायण थीम पर डाक टिकट जारी किए

जर्काताः भारत के साथ अपने कूटनीतिक रिश्तों के 70 साल पूरे होने पर इंडोनेशिया सरकार ने रामायण की थीम पर बने विशेष डाक टिकट जारी किए। इन डाक टिकटों की डिजाइन इंडोनेशिया के शिल्पकार और पद्मश्री बापक न्योमान न्यूआर्ता ने तैयार की है। इस डाक टिकट में सीता के बचाव के लिए जटायू के संघर्ष को दर्शाया गया है।

प्रदर्शनी के लिए रखा जाएगा संग्रहालय में

भारत के साथ राजनयिक संबंधों के 70 साल होने के मौके पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस खास मौके पर भारत के राजदूत प्रदीप कुमार रावत और इंडोनेशिया के उप विदेश मंत्री अब्दुर्रहमान मोहम्मद फकिर भी उपस्थित थे। इन खास डाक टिकटों को जर्काता के फिलेटली संग्रहालय में प्रदर्शन के लिए रखा गया है। वहीं कार्यक्रम के दौरान 1949 से 2019 तक भारत और इंडोनेशिया के संबंधों से जुड़े ऐतिहासिक पलों को तस्वीरों के माध्यम से दिखाया गया।

गौरतलब है कि भारतीय रामायण जहां वाल्मीकि ने लिखी थी, वहीं इंडोनेशिया की रामायण वास्तव में श्रीलंकाई संस्करण की देन है, जिसे ऋषि कंबन ने लिखा था। इसे स्थानीय भाषा में रामावतारम कहते हैं। भारतीय और इंडोनेशियाई रामायण के बाल कांड और अयोध्या कांड एक समान हैं।

हालांकि सीताजी को लेकर दोनों में काफी अंतर है। भारतीय रामायण में जहां सीताजी को सौम्य, शांत और खूबसूरती की प्रतिमूर्ति बतौर दर्शाया गया है, वहीं इंडोनेशियाई रामायण की सीता शक्तिशाली और निर्भीक है। रामावतारम की सीता काफी कुछ महाभारत की द्रोपदी की तरह हैं, जो रावण द्वारा बलात अपहरण के बाद लंका में अपनी स्वतंत्रता के लिए खुद असुरों से युद्ध करती हैं।


शेयर करें

मुख्य समाचार

सऊदी के रेस्तरां में एक साथ प्रवेश कर सकेंगे पुरुष और महिला

रियाद : सऊदी अरब की सरकार लगातार रूढ़िवादी विचारधारा को छोड़कर खुली सोच को अपना रही है। इस दिशा में काम करते हुए सऊदी की आगे पढ़ें »

जल्द ही बर्डे़ पर्दे पर वापसी करने जा रही हैं सुष्मिता सेन

मुंबई : बाॅलीवुड की मशहूर अभिनेत्री सुष्मिता सेन बड़े पर्दे पर अपनी वापसी के लिए तैयार हैं। पूर्व मिस यूनिवर्स ने अपने इंस्टाग्राम के जरिए आगे पढ़ें »

ऊपर