आतंकी संगठनों पर पाकिस्तानी कार्रवाई का कोई सबूत नहीं : हुसैन हक्कानी

वॉशिंगटन : अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का आतंकी संगठनों को किसी भी तरह का समर्थन नहीं देने का हालिया बयान उनकी नीति में बदलाव का नहीं बल्कि एक वैश्विक संस्था की ओर से प्रतिबंधित होने के डर को दिखाता है।

पूर्व दूत हुसैन हक्कानी का कहना है कि खान का बयान आतंकी संगठनों को वित्तीय सहायता पहुंचाने वालों पर नजर रखने वाली संस्था फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की ओर से देश को प्रतिबंधित करने के डर से लिया गया है। आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करने के वैश्विक दबाव के बीच खान ने पिछले महीने कहा था कि उनकी सरकार पाकिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी भी तरह के आतंकी गतिविधि के लिए नहीं होने देगी और ऐसे संगठनों पर कार्रवाई करेगी।

आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के व्यवहार में कोई बदलाव नहीं

वह भारत की पहल के बाद जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी की ओर से आयोजित इंडिया आइडियाज कॉन्फ्रेंस में उन्होंने अपने संबोधन में कहा, ‘खास तौर पर अफगानिस्तान और भारत के खिलाफ होने वाले आतंकवाद में पाकिस्तान के व्यवहार में बेहद कम ही बदलाव हुए हैं।’ उन्होंने इस ओर इशारा किया कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले के बाद जैश-ए-मोहम्मद के नेता मसूद अजहर के खिलाफ पाकिस्तान किसी भी तरह की कार्रवाई करने में विफल रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना ने जुलाई-सितंबर के दौरान शीर्ष सात शहरों में घरों की बिक्री 61% घटाई

नयी दिल्ली: कोविड-19 महामारी से आवास क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है। संपत्ति सलाहकार जेएलएल इंडिया ने सोमवार को कहा कि महामारी की वजह से आगे पढ़ें »

फ्रेंच ओपन में उलटफेर, मर्रे पहले दौर में हारकर बाहर, ज्वेरेव दूसरे दौर में

पेरिस : आम तौर पर ग्रैंडस्लैम के पहले दौर में दो ग्रैंडस्लैम चैम्पियनों का सामना नहीं होता लेकिन फ्रेंच ओपन के शुरूआती दौर में यह आगे पढ़ें »

ऊपर