अमेरिकी तकनीक पर खतरे की आशंका, ट्रंप ने किया इमरजेंसी का एलान

वॉशिंगटनः अमेरिकी कंप्यूटर नेटवर्क्स पर विदेशी हमलों का खतरा होने की आशंका के तहत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सुरक्षा कारणों से राष्ट्रीय आपातकाल का ऐलान कर दिया है। उन्होंने बुधवार शाम इससे जुड़े कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए। जिसके बाद अब कोई भी अमेरिकी कंपनी उन विदेशी कंपनियों का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी जिन पर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने की आशंका हो। कयास लगाए जा रहें हैं कि ट्रंप अपने इस निर्णय से चीनी कंपनी हुवावे को निशाना बनाना चाहते हैं। बताते चलें कि पिछले कुछ समय से अमेरिका और चीन में व्यापार को लेकर तकरार चल रही है।

डेटा चोरी करने की आशंका

चीनी कंपनी हुवावे पर यूजर्स की जासूसी और डेटा चोरी करने की आशंका अमेरिका ही नहीं बल्कि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे देश भी जता चुके हैं। इसी के चलते कंपनी को अमेरिका के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने भी 5जी नेटवर्क्स पर हुवावे के उत्पादों को बैन कर दिया है।

क्या है ट्रंप का आदेश

व्हाइट हाउस से जारी एक बयान के मुताबिक, राष्ट्रपति ट्रंप अमेरिका को उन विदेशी कंपनियों से बचाने की कोशिश कर रहे हैं जो संचार व्यवस्था की कमियों का गलत फायदा उठाने की कोशिश करते हैं। इस आदेश के बाद अमेरिकी वाणिज्य मंत्री राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा देखते हुए किसी भी लेन-देन को रोक सकते हैं। इस फैसले को अमेरिकी फेडरल कम्युनिकेशन कमीशन के चेयरमैन अजीत पाई ने अच्छा कदम बताया है। गुरुवार को एक बयान जारी कर चीनी कंपनी हुवावे ने कहा कि इस बैन से अमेरिका मजबूत और सुरक्षित नहीं होगा बल्कि उसे और महंगे विकल्प ढूंढने होंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

बैडमिंटन : मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कोर्ट पर उतरे लक्ष्य

नयी दिल्‍ली : स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) की गाइडलाइंस के बाद बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड़ सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अकादमी में बैडमिंटन खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर