अमेरिका ने 2019 में वैश्विक आतंकी संगठनों का 6.3 करोड़ डॉलर का वित्तपोषण रोका

वाशिंगटन: अमेरिका ने विदेशी आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई के तहत वर्ष 2019 में पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद सहित अन्य आतंकी संगठनों के करीब 6.3 करोड़ डॉलर की वित्तीय मदद बाधित की है। अमेरिका के राजकोषीय विभाग की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका ने लश्कर-ए-तैयबा के 3,42,000 डॉलर, जैश-ए-मोहम्मद के 1,725 डॉलर, हरकत उल मुजाहिदीन के 45,798 डॉलर के कोष को बाधित किया। ये तीनों पाकिस्तानी आतंकी संगठन हैं। हरकत-उल- मुजाहिदीन जिहादी समूह कश्मीर में अपनी गतिविधियों को अंजाम देता है। रिर्पोट के मुताबिक पाकिस्तान से संचालित और कश्मीर में अपनी गतिविधियों को अंजाम दे रहे एक और संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के 4,321 डॉलर को वर्ष 2019 में रोकने में सफलता मिली, जबकि उसके पिछले साल एजेंसियों को इस संगठन की 2,287 डॉलर की मदद रोकने में सफलता मिली थी। अमेरिका ने तहरीक-ए-तालिबान के वर्ष 2019 में 5,067 डॉलर जब्त किये।
मालूम हो कि डिपार्टमेंट ऑफ ट्रेजरी ऑफिस ऑफ फॉरेन एसेट कंट्रोल (ओएफएसी) अमेरिका की एक महत्वपूर्ण एजेंसी है, जिसकी जिम्मेदारी अंतराष्ट्रीय आतंकी संगठनों और आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों की संपत्ति पर लगे प्रतिबंध को लागू करवाना है। अमेरिका ने वर्ष 2019 में करीब 70 घोषित आतंकी संगठनों के 6.3 करोड़ डॉलर के वित्तपोषण को रोकने में सफलता हासिल की, जिनमें सबसे अधिक 39 लाख डॉलर अकेले अलकायदा के हैं। वर्ष 2018 में अमेरिका ने आतंकी संगठनों के 4.6 करोड़ डॉलर बाधित किये थे, जिसमें 64 लाख डॉलर की राशि अलकायदा की थी। इस सूची में हक्कानी नेटवर्क भी है, जिसकी 26,546 डॉलर की राशि जब्त की गयी, जो वर्ष 2018 के 3,626 डॉलर के मुकाबले अधिक है। अमेरिका ने वर्ष 2019 में लिब्रेशन टाइगर ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) की 5,80,811 डॉलर की राशि रोकने में सफलता हासिल की है। अमेरिका ने आतंकवाद प्रायोजित करने वाले देशों की सूची में शामिल ईरान, सूडान, सीरिया और उत्तर कोरिया की 20.019 करोड़ डॉलर की राशि बाधित की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बागबाजार अग्निकांड : बस्तीवासियों के पुनर्वासन को लेकर केएमसी तत्पर

प्रशासक ने बस्तीवालों से मकान तैयार करने के खर्च का मांगा ब्योरा पार्षद ने कहा : बस्ती वाले खुद से तैयार करेंगे अपना आशियाना कोलकाता : बागबाजार आगे पढ़ें »

कोरोना के दर्दनाक दौर को अब भूलना चाहता है बंगाल

 अब वैक्सीन है तो उम्मीद है, लेकिन लापरवाही अभी भी नहीं - लोगों ने कहा  राज्य में पहला कोविड का मामला 17 मार्च को, पहली मौत आगे पढ़ें »

ऊपर