अदालत में तीखे सवालों से घिरा ट्रंप का आव्रजन प्रतिबंध

सैन फ्रांसिस्कोः अमरीका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के यात्रा प्रतिबंध को कड़े परीक्षण का सामना करना पड़ा है। बुधवार को हुई सुनवाई में अपीली अदालत ने ट्रंप प्रशासन से पूछा कि यात्रा प्रतिबंध असंवैधानिक तरीके से मुस्लिमों के खिलाफ भेदभाव करता है या नहीं? इसके साथ ही अदालत ने इन प्रतिबंधों के राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं से प्रेरित होने की दलीलों पर भी सवाल उठाया। सूत्रों की मानें तो अपीली अदालत जल्दी ही फैसला सुना सकती है और यह मामला आने वाले दिनों में उच्चतम न्यायालय तक भी जा सकता है।
संवैधानिक अधिकारों के तहत हस्ताक्षर
न्याय मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप ने शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर करते हुए अपने संवैधानिक अधिकारों और कर्तव्यों के तहत ही काम किया है। तीन न्यायाधीशों के पैनल के समक्ष चली सुनवाई में न्याय मंत्रालय के वकील अगस्त फ्लेंत्जे ने कहा कि शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर करते हुए ट्रंप ने राष्ट्रीय सुरक्षा और लोगों को देश में प्रवेश देने के काम में संतुलन बनाकर रखा। वकील ने अदालत से अनुरोध किया कि वह सीएटल की एक अदालत द्वारा जारी किए गए शासकीय आदेश पर लगी रोक को हटाए। अपीली अदालत जल्दी ही फैसला सुना सकती है। यह मामला आने वाले दिनों में उच्चतम न्यायालय तक जा सकता है।
सवालों से घिरे सरकारी पक्ष के वकील
न्यायाधीश मिशेल फ्राइडलैंड ने पूछा कि ‘क्या सरकार ने इन देशों को आतंकवाद से जोड़ने के संदर्भ में कोई साक्ष्य पेश किया?’ फ्राइडलैंड ने पूछा ‘क्या आप यह कह रहे हैं कि राष्ट्रपति के फैसले की समीक्षा अदालत नहीं कर सकती?’ क्या राष्ट्रपति यूं ही कह सकते हैं कि अमरीका मुस्लिमों को नहीं आने देगा। ‘क्या वह ऐसा कर सकते हैं? क्या कोई इसे चुनौती दे पाएगा?’
क्या कहा सरकारी वकील ने
फ्लेंत्जे ने कहा कि न्याय मंत्रालय यह नहीं कह रहा कि मामला पर कार्यवाही नहीं होनी चाहिए। ‘लेकिन यह अजीब है कि एक अदालत ने राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए किए गए फैसले पर किसी अखबार में छपे लेखों के आधार पर रोक लगा दी।’ जब न्यायाधीशों ने साक्ष्यों की मांग की तो फ्लेंत्जे ने अमरीका में रहने वाले सोमालिया के उन कई लोगों का हवाला दिया, जो उनके अनुसार, आतंकी संगठन अल-शबाब से जुड़े रहे हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

सिद्धू के समर्थन में उतरे कपिल शर्मा

नई दिल्लीः पुलवामा हमले पर दिए गए बयान के बाद नवजोत सिंह सिद्धू को जमकर किए जा रहे विरोध का सामना करना पड़ रहा है। जहां एक ओर उन्हें कॉमेडी शो द कपिल शर्मा शो  से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया, वहीं [Read more...]

बड़ा फैसलाः बिहार में पूर्व मुख्यमंत्रियों को अब नहीं मिलेगा सरकारी आवास

पटनाः पटना हाईकोर्ट ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन मिलने वाली सरकारी आवास की सुविधा समाप्त कर दी है। चीफ जस्टिस ए पी शाही की खंडपीठ ने मामले पर स्वतः संज्ञान लेते हुए सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था, [Read more...]

रिहर्सल के दौरान दो सूर्य किरण आपस में टकराए, पायलट सुरक्षित

बड़ा खुलासाः पुलवामा हमले में अंगीठी के कोयले में छिपाकर लाया ला रहा था आरडीएक्स

प्रियंका गांधी ने शहीद की बेटी से कहा-‘डॉक्टर बनने का सपना पूरा करने में हर मदद करूंगी’

शूटिंग विश्व कप में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद : अपूर्वी चंडेला

भारत के बाद अब पाकिस्तान ने भी अपने उच्चायुक्त को वापस बुलाया

अभ्यास मैच में हारी भारतीय महिला बोर्ड अध्यक्ष एकादश की टीम

पुलवामा अटैक : मास्‍टरमाइंड गांजी को खात्‍मा करने में शहीद जाबांज के पिता ने कहा, बेटे पर गर्व है

इस तंत्र के आने के बाद भारत के सीमा क्षेत्र में नहीं घुस पाएंगे घुसपैठिए, अभी 6-7 साल का लगेगा और समय

मुख्य समाचार

2031 तक इस्पात उत्पादन 300 मिलियन टन बढ़ाने का लक्ष्य : बीरेंद्र सिंह

नई दिल्ली : स्टील एथारिटी ऑफ इंडिया ने बिहार के पूर्वी चंपारण जिले स्थित बेतिया में सेल की नई स्टील प्रोसेसिंग यूनिट लगाई है। केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह और केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास [Read more...]

सिद्धू के समर्थन में उतरे कपिल शर्मा

नई दिल्लीः पुलवामा हमले पर दिए गए बयान के बाद नवजोत सिंह सिद्धू को जमकर किए जा रहे विरोध का सामना करना पड़ रहा है। जहां एक ओर उन्हें कॉमेडी शो द कपिल शर्मा शो  से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया, वहीं [Read more...]

ऊपर