अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष : केंद्रीय बैंकों की स्वतंत्रता से अबतक मिले अच्छे परिणाम

वाशिंगटन :अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) की प्रमुख क्रिस्टिन लेगार्द ने शनिवार को कहा कि सरकारों की ओर से केंद्रीय बैंकों की स्वतंत्रता का सम्मान किए जाने के परिणाम अच्छे रहे हैं। लेगार्द की यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जब विश्व के कई देशों में केंद्रीय बैंकों को सरकार के दबाव का सामना करना पड़ रहा है।

पिछले साल ट्रम्प ने लगाया था आरोप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने फेडरल रिजर्व के पिछले साल नीतिगत ब्याज दर बढ़ाने के फैसले को लेकर उस पर हमला किया था। उन्होंने फेडरल रिजर्व के केंद्रीय निदेशक मंडल में रिक्तियों को भरने के लिए अपनी पार्टी रिपब्लिकन के वफादरों को नामित किया था।

केंद्रीय बैंकों की स्वतंत्रता से परिणाम अच्छा रहा

विश्वबैंक और मुद्राकोष की यहां ग्रीष्मकालीन बैठक के समापन के मौके पर लेगार्द ने कहा कि केंद्रीय बैंक के अधिकारियों ने जनता के प्रति जवाबदेह होने के साथ ही निर्णय लेने में पारदर्शी रहने तथा नीतियों की जानकारी देने में स्पष्ट रहने की जरूरत पर बल दिया है। उन्होंने कहा, ‘उनमें से सभी यही कह रहे थे कि हमें विश्वासनीय बने रहने के लिए इन मानकों की जरूरत है। स्वतंत्रता ने अभी तक अच्छे परिणाम दिए हैं और उम्मीद है कि आगे भी अच्छे परिणाम मिलते रहेंगे।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

imran

एफटीएफ में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, डार्क ग्रे सूची में डाले जाने का डर

पेरिस : पाकिस्तान पर आतंकी वित्तपोषण की निगरानी संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) कड़े प्रतिब्रध लगा सकती है। रिपोर्टस के मुताबिक, आतंकवाद पर कड़ी आगे पढ़ें »

जीएसटी के दायरे में आ सकता है पेट्रोल डीजल

नई दिल्ली : केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने फाइनेंस मिनिस्टमर निर्मला सीतारमण से पेट्रोल, डीजल समेत सभी पेट्रो उत्पा्दों को जीएसटी के दायरे में आगे पढ़ें »

ऊपर