बागवानी से दुरुस्त रहता है दिल और सेहत

नई दिल्ली : विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अच्छी सेहत का मतलब इमोशनल पॉजिटिविटी, कम्यूनिटी की फीलिंग और खुशहाली से भी है। अगर आपको प्रकृति से प्यार है, तो आप प्रकृति के करीब रहना चाहती है तो आपको गार्डनिंग जरूर करनी चाहिए। बागवानी में सुंदर फूलों और खूबसूरत पौधे लगाकर आप घर को ही खूबसूरत नहीं बनाते, बल्कि आप खुशी भी महसूस करती हैं। मिट्टी की गुड़ाई करना, घास साफ करना, जमीन में बीज डालना और पौधे लगाना सिर्फ काम भर नहीं है, इससे आपको खुशी भी महसूस होती है। इससे आपको कई तरह के फायदे हैं।

बढ़ता है आत्मविश्वास
बहुत से लोग हममे कमियां निकालते हैं या बेवजह भी नुकसान पहुंचा देते हैं, इससे हमारा आत्मविश्वास भी प्रभावित होता है। गार्डनिंग करते हुए आपके अंदर सकारात्मकता आती है और आपके लगाए पौधे बड़े होते हैं, उनमें फूल आते हैं तो आपको खुशी मिलती है।

पति को खिलाइए ये सुपरफूड्स, बेबी होगा स्वस्थ

अच्छी रहती है दिल की सेहत
बागवानी करते हुए शरीर की एक्सरसाइज भी होती है और अच्छा महसूस भी होता है। इससे दिल स्वस्थ रहता है और दिल की बीमारियों और स्ट्रोक जैसी गंभीर समस्याओं का जोखिम कम हो जाता है।

तनाव कम होता है
एक रिपोर्ट के मुताबिक गार्डनिंग से तनाव में राहत मिलती है। इस स्टडी में लोगों को दो समूह में बांटा गया, एक ग्रुप को तनाव भरे काम दिए गए और दूसरे समूह को 30 मिनट के लिए बागवानी का काम। जिन्होंने बागवानी की उनका कार्डिसोल लेवल कम था। कार्डिसोल हार्मोन स्ट्रेस से जुड़ा हुआ है। आपका दिन तनावमय रहता है तो आपको बगीचे में शाम को कुछ वक्त जरूर बिताना चाहिए।

ये ड्राईफ्रूट है बेहद फायदेमंद, रोजाना खाने से होंगे ये फायदे

मिट्टी देती है खुशी
वैज्ञानिक अध्ययनों में पाया गया है कि एम. वक्काई नाम का बैक्टीरिया शरीर में जाता है, जो सरटॉनिन (खुशी वाले हार्मोन) हमारे शरीर में चला जाता है। यह हार्मोन आप हरे-भरे माहौल में वॉक करके भी पा सकती हैं।

अच्छी नींद आती है
यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया के एक अध्ययन के मुताबिक बागवानी करने से दिमाग रिलैक्स हो जाता है और फिजिकल एक्टिविटी से शरीर की सभी प्रक्रियाए सही तरीके से काम करती हैं। दिन में बागवानी करने से रात में अच्छी नींद आती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर