फायदेमंद है संतुलित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन, अत्यधिक मात्रा पहुंचा सकता है नुकसान

नई दिल्ली : तंदुरुस्त शरीर और स्वस्थ दिमाग के लिए पौष्टिक आहार का सेवन जरूरी होता है। अन्य पोषक तत्वों की तरह कार्बोहाइड्रेट भी शरीर के लिए फायदेमंद होता है। यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए आवश्यक स्रोत होता है। हमारा पाचन तंत्र कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज या रक्त शर्करा में बदल देता है। इस ग्लूकोज का उपयोग हमारे शरीर की कोशिकाएं, ऊतक और अंग ऊर्जा प्राप्त करने के लिए करते हैं। कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करना, सम्पूर्ण शरीर में आवश्यक ऊर्जा देना और हृदय की मांसपेशियों व कोशिकाओं को उचित कार्य करने में यह मदद करता है।

क्यों है जरूरी
शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के साथ ही इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र से जुड़ी हुई कई बीमारियों की जड़ माने जाने वाले मोटापे को नियंत्रित करता है। कार्बोहाइड्रेट हानिकारक कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करता है, जिससे हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा दूर होता है। यह रक्त में मौजूद शुगर को भी नियंत्रित करता है।

कितनी है आवश्यकता
एक्सपर्ट्स का कहना है कि एक व्यस्क व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम 135 ग्राम कार्बोहाइड्रेट की जरूरत होती है। वहीं, गर्भवती महिला को प्रतिदिन कम से कम 175 ग्राम कार्बोहाइड्रेट का सेवन करना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक संरचना अलग-अलग होती है, ऐसे में सबको प्रतिदिन कार्बोहाइड्रेट की अलग मात्रा लेनी चाहिए।

कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ
ब्राउन राइस
ब्राउन राइस सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद हैं, इसमें पाया जाने वाला कार्बोहाइड्रेट रक्त में मौजूद शुगर की मात्रा को कम करने में फायदेमंद साबित हो सकता है। यह रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम करके मधुमेह को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है।

कुट्टू
कुट्टू में काबोहाइड्रेट के अलावा एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्मेटरी और एंटी-कैंसर गुण भी होते हैं, जाे स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

किडनी बीन्स
किडनी बीन्स भी हृदय रोग के खतरे को करता है, अच्छे कोलेस्ट्रोल को प्रभावित किए बिना खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करता है। किडनी बीन्स हृदय बीमारियों के खतरे को भी दूर करता है।

मसूर की दाल
दाल में कार्बोहाइड्रेट के साथ-साथ अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। यह प्रोटीन का अच्छा है। दाल में फाइबर, फोलिक एसिड और पोटैशियम की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो हृदय के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं। दाल को आयरन का भी अच्छा स्रोत माना गया है, जो कि रक्त में आयरन की कमी नहीं होने देता और एनीमिया जैसी समस्या को दूर करता है। यह मधुमेह में भी राहत देता है।

आलू
इसमें कार्बोहाइड्रेट स्टार्च के रूप में होता है और यह एंटीऑक्सीडेंट, हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीओबेसिटी, एंटीकैंसर और एंटीडायबिटिक से भरपूर होता है। यह रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित कर ह्रदय को स्वस्थ रखता है। आलू प्रतिरक्षा प्रणाली को भी ठीक बनाए रखने में मदद कर सकता है ।

केला
केला कार्बोहाइड्रेट के साथ-साथ ऊर्जा, पोटैशियम, विटामिन-बी 6, विटामिन-सी और अन्य पोषक तत्वों का महत्वपूर्ण स्रोत है। इसमें मौजूद ये पोषक तत्व आपके स्वास्थ्य के लिए कई प्रकार से उपयोगी हो सकते हैं।

क्विनोआ
कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की मात्रा होने के कारण क्विनोआ मधुमेह से ग्रस्त लोगों के लिए अच्छा है। इसमें फाइबर और आयरन भी होता है, क्विनोआ पोटैशियम का भी अच्छा स्रोत है, जो मांसपेशियों के निर्माण के साथ ही स्वस्थ हृदय के लिए भी फायदेमंद है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाते हैं। बीमारियों से बचाने के साथ यह स्किन और चेहरे की समस्याओं को भी दूर करता है।

ओट्स
ओट्स में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, प्रोटीन और आयरन जैसे कई पोषक तत्व होते हैं। यह हृदय की समस्या, कोलेस्ट्रोल की समस्या, मधुमेह और कैंसर जैसी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से लेकर त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है। यह दस्त और कब्ज जैसी पाचन समस्याओं, पित्त, पथरी और पेट के कैंसर को रोकने के लिए भी ओट्स का सेवन फायदेमंद हो सकता है।

गेहूं
गेहूं में स्टार्च, प्रोटीन, विटामिन-बी, फाइबर और फाइटोकेमिकल्स जैसे तत्व होते हैं। यह हृदय रोग के खतरे को कम करने के साथ ही टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित करने और कोलोरेक्टल कैंसर की रोकथाम के लिए लाभदायक हो सकते हैं।

चने या छोले
इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, स्टार्च, पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड व विटामिन के अलावा फोलेट, कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे खनिज भी पाए जाते हैं। यह पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने के साथ ही कैंसर, हृदय की समस्या, बढ़ा हुआ मोटापा और मधुमेह के खतरे को कम कर कई परेशानियों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं।

नुकसान
इसका अधिक सेवन सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट के सेवन से कैलोरी बढ़ सकती है और इससे मोटापे का खतरा हो सकता, रक्त में मौजूद खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे रक्तचाप और हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में सात दिन के लिए निरूद्ध क्षेत्रों में लॉकडाउन लागू रहेगा : ममता

कोलकाता :  देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों से बचाव के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य में आगे पढ़ें »

सितंबर तक मिलेगा 3 एलपीजी गैस सिलेंडर मुफ्त : जावेड़कर

नयी दिल्ली : देशभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण के प्रभाव को कम करने व गरीबों को आर्थिक भार न आगे पढ़ें »

ऊपर