गर्भनिरोधक गोलियां महिलाओं के लिए कितनी है सुरक्षित, जानिए डॉक्टर्स की राय

नई दिल्ली: आमतौर पर महिलाएं अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए गर्भनिरोधक गोलियो इश्तेमाल कर लेती हैं, जो कि स्वास्थ के लिए हानिकर हो सकता है। इन गोलियों के अधिक इस्तेमाल से दिल कमजोर हो सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक 21 से 40 साल की महिलाओं में ये दवाएं महिलाओं का दिल कमजोर बना सकती हैं, जिसके असर को देखते हुए विशेषज्ञों ने निर्धारित उम्र में ही गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन सुरक्षित बताया है। फोर्टिस एस्कार्ट अस्पताल के कार्डियोवॉस्कुलर सर्जरी विभाग के डॉ. जेड एस मेहरवाल का कहना है कि गर्भ निरोधक गोलियो में एस्ट्रोजन हार्मोन पाया जाता है।

लंबे समय तक गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन करने वाली महिलाओं में एस्ट्रोजन के साथ ही रक्तचाप को बढ़ाने वाले कारक सुपरऑक्साइड की मात्रा भी बढ़ जाती है, जिसकी वजह से गुस्सा, माइग्रेन व उच्च रक्तचाप के लक्षण पहले सामने आते हैं। सुपरऑक्साइड कंपाउंड रक्त में ऑक्सीजन की एक ऐसी स्थिति है, जिससे रक्त में प्रोटीन व न्यूक्लियर एसिड की मात्रा अनियंत्रित हो जाती है। दो से तीन साल तक गर्भनिरोधक गोलियो का इस्तेमाल सुरक्षित होता है, जबकि इससे अधिक सेवन पर शरीर में गोलियो की जरिए अधिक मात्रा में पहुंचा एस्ट्रोजन नकारात्मक असर डालने लगता है, यह नसों में रक्त का थक्का जमा कर थांब्रोसिस या पल्मोनेरी इंन्युरिजम (धमनियों में खून का जमाव) का कारण बन सकता है।

10 से 14 साल से अधिक समय तक पिल्स लेने वाली महिलाओं को जांच करानी चाहिए। नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट के डॉ. ओपी यादव कहते हैं कि महिलाओं में मधुमेह, मोटापा, सिगरेट या फिर उच्च रक्तचाप की फैमिली हिस्ट्री है तो गर्भनिरोधक दवाएं लेने से पहले क्लीनिकल टेस्ट कराएं। एस्ट्रोजन हार्मोन युक्त पिल्स की अपेक्षा प्रोजेस्टिन हार्मोन युक्त कंट्रेसेप्टिव को अधिक बेहतर बताया गया है। महिला रोग विशेषज्ञों का कहना है कि यदि पांच से आठ साल तक गर्भ धारण की योजना नहीं है तो परिवार नियोजन के अन्य विकल्प भी अपनाएं जा सकते हैं।

क्यों नहीं है सुरक्षित
– गर्भनिरोधक गोलियो में उपस्थित हार्मोन रक्तचाप बढ़ाता है, जिसे सीवीटी (कार्डियोवॉस्कुलर एंड थेरोसिस) का खतरा बढ़ता है।
– रक्तचाप के अलावा सुपरऑक्साइड रक्त के लिपिड प्रोफाइल एनडीएल व एचडीएल को भी प्रभावित करता है।
– दवाओं के कारण रक्त पतला होता है, जिससे ब्रेन स्ट्रोक का भी खतरा बढ़ सकता है।
– दवाओं के नकारात्मक असर के कारण अधिक गुस्सा और माइग्रेन के रूप में सामने आते हैं।

किस उम्र तक सुरक्षित
डॉक्टरों का कहना है कि महिलाएं मीनोपॉज (50-55)की स्थिति तक हालांकि गर्भनिरोधक गोलियो का इस्तेमाल कर सकती हैं। हालांकि परिवार में पहले बच्चे की तैयारी की जा रही है तो 29 से 32 साल बेहतर समय है। इससे अधिक उम्र में गर्भनिरोध के लिए पिल्स का प्रयोग सही नहीं कहा जा सकता। इस स्थिति में अधिक उम्र में गर्भधारण नवजात में मानसिक विकृतियां व अन्य परेशानियों का कारण बन सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

arif

केरल के राज्यपाल ने प्रदर्शनकारियों से हिंसा बंद करने की अपील की

तिरुवनंतपुरम : नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ लोगों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने प्रदर्शनकारियों से हिंसा बंद आगे पढ़ें »

jamia

जामिया की वाइस चांसलर ने की उच्च स्तरीय जांच की मांग

नई दिल्ली : जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्रों के नागरिकता संशाेधन बिल पर विरोध देखने काे मिला और रविवार देर रात प्रदर्शनकारियों ने 4 बसों आगे पढ़ें »

senger

उन्नाव दुष्कर्म मामले में विधायक कुलदीप सेंगर दोषी करार, बुधवार को सुनाई जाएगी सजा

रोजाना खाइए एक चम्मच शहद, बीमारियां रहेंगी दूर

नागरिकता कानून के खिलाफ ममता की रैली, कहा- भाजपा पैसे देकर कराती है हिंसा

chauhan

असम में तैनात सेना की टुकड़ियां एक या दो दिन में बैरक में वापस आ जाएंगी: सेना कमांडर

पैन को आधार से इस तारीख तक करा लीजिए लिंक, नहीं तो होगी मुश्किलें

modi

नागरिकता कानून पर हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण, अफवाहों से दूर रहें और शांति बनाए रखें : पीएम मोदी

bangladesh

भारत में अवैध ढंग से रह रहे अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए तैयार है बांग्लादेश

rahul

स्मृति की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने मांगा राहुल के बयान पर जवाब

ऊपर