क्या है कॉफी पीने का सही समय, जानिए

नई दिल्ली : हर काम करने का एक समय होता है, कॉफी पीने का भी। बहुत सी महिलाएं दिन की शुरुआत एक कप कॉफी से करती हैं। कई महिलाएं तो कहती हैं कि कॉफी के बिना उनके सिर में दर्द शुरू हो जाता है। काम की थकान को दूर करने के लिए भी कॉफी पीती हैं।
वैसे तो कॉफी सेहत के लिए अच्छा है लेकिन यह तभी होता है, जब आप सही मात्र में सही समय पर लें।

सुबह उठते ही ना पिएं कॉफ़ी
ब्रेकफास्ट से पहले कॉफी ना पिएं। सुबह उठते ही कॉफी लेने से शरीर में मौजूद कोर्टीसोल की मात्रा बढ़ जाती है। कोर्टीसोल आपके इम्यून सिस्टम, मेटाबॉलिज़्म और स्ट्रेस रिस्पॉन्स को रेग्यूलेट करने के लिए जिम्मेदार होता है। सुबह कॉफ़ी पीने से शरीर में स्ट्रेस लेवल बढ़ने के साथ आपको मूड स्विंग्स की भी शिकायत होगी।

खाली पेट नहीं लें
खाली पेट कॉफी का सेवन न करें, अगर आपने लंबे समय से कुछ नहीं खाया है तो आप कॉफी पीने की भूल न करें। इससे आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं जैसे एसिडिटी, अल्सर, कब्ज व पेट में परेशानी हो सकती हैं। खाली पेट कॉफी पीने से जब एसिड की मात्रा बढ़ जाती है, तो इससे सीने में जलन होने लगती है।

वर्कआउट से पहले
वर्कआउट से पहले कॉफी पीना सेहतमंद है। वर्कआउट से आधा घंटा पहले कॉफी पीने से आपका मेटाबॉलिज़्म बूस्टअप होता है और इसमें मौजूद कैफीन के कारण आपके शरीर की एनर्जी बढ़ती है। आप सिर्फ एक कप ही कॉफी पीएं, अधिक कॉफ़ी से समस्या हो सकती है।

ब्रंचिंग टाइम में पिएं
सुबह नाश्ते के बाद और लंच से पहले एनर्जी की जरूरत होती है। इसलिए उस समय कॉफी पीने का अच्छा समय है।

देर शाम
देर शाम कॉफी ना पिएं, इसके सेवन से भूख मर जाती है और आपका डिनर मिस हो जाता है और इससे शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। देर शाम कॉफी पीने से रात को सोने में भी परेशानी हो सकती है।

सोने से पहले ना पिएं
सोने से पहले कॉफी न पिएं। सोने से पहले कॉफी पीने वालों को रात में ठीक से नींद नहीं आती। कॉफी में कैफीन होता है, जिससे नींद प्रभावित होती है। रोजाना सोने से पहले पीने पर अनिद्रा की समस्या हो सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर