कैंसर के उपचार में मददगार हो सकते हैं समुद्री शैवाल आधारित नैनो कंपोजिट

नई दिल्ली : केंद्रीय नमक और समुद्री रसायन अनुसंधान संस्थान (सीएसएमसीआरआई) भावनगर के शोधकर्ताओं ने समुद्री शैवाल से प्राप्त पॉलीसेकेराइड यौगिक से अगर-एल्डिहाइड के संश्लेषण और फिर उस पर आधारित ठोस सिल्वर नैनो कंपोजिट तैयार करने की पद्धति विकसित की है, जो कैंसर के इलाज में मददगार हो सकता है। शोधकर्ताओं ने बताया कि इस पद्धति से किफायती सिल्वर नैनो कंपोजिट प्राप्त किया जा सकता है, जो बैक्टीरिया-रोधी परत चढ़ाने, प्रतिक्रियाशील पदार्थों के निर्माण और कैंसर-रोधी उपचार विकसित करने में सहायक हो सकता है।

इस अध्ययन के मुताबिक समुद्री शैवाल से पॉलिमर प्राप्त कर के उसे एक विशिष्ट तकनीक से अगर-एल्डिहाइड में परिवर्तित किया गया है। कार्बन के रासायनिक यौगिकों को एल्डिहाइड कहते हैं, अगर-एल्डिहाइड में सिल्वर क्लोराइड मिलाकर उसे सिल्वर नैनो कणों में परिवर्तित किया जा सकता है। अगर-एल्डिहाइड और सिल्वर नैनो कण दोनों को मिलाकर सिल्वर नैनो कंपोजिट को बनाया गया है। कैंसर-रोधी एजेंट के रूप में सिल्वर नैनो कण के उपयोग के बारे में पहले से जानकारी मौजूद है।  इस अध्ययन में सिल्वर नैनो कणों को कोलाइडीय विलयन से अलग करने की बेहतर तकनीक विकसित की गई है और इसे उपचारित करके ठोस रूप में परिवर्तित किया गया है। शोधकर्ताओं ने बताया कि अध्ययन के दौरान अलग किए गए ठोस एल्डिहाइड-सिल्वर नैनो कण छह महीने के बाद भी स्थिर एवं जैविक रूप से सक्रिय पाए गए हैं, जो दर्शाता है कि इसे संग्रहीत करके भी रखा जा सकता है।

समुद्री शैवाल से लागत होगी कम 

सीएसएमसीआरआई, एकेडमी ऑफ साइंटिफिक ऐंड इनोवेटिव रिसर्च, गाजियाबाद, एडवांस्ड सेंटर फॉर ट्रीटमेंट, रिसर्च ऐंड एजुकेशन इन कैंसर, टाटा मेमोरियल सेंटर, मुंबई और होमी भाभा नेशनल इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं के इस संयुक्त अध्ययन में एल्डिहाइड सिल्वर कंपोजिट की कैंसर-रोधी प्रतिक्रिया का आकलन करने के लिए जैविक एवं अजैविक परीक्षण किए गए हैं। इन परीक्षणों में तीन कैंसर सेल लाइनों के खिलाफ सिल्वर नैनो कणों को प्रभावी पाया गया है। चूहों पर किए गए जैविक परीक्षण में इन सिल्वर नैनो कणों को ट्यूमर को नियंत्रित करने में प्रभावी पाया गया है। शोधकर्ताओं ने बताया कि नैनो कणों में सिल्वर की मात्रा करीब दो प्रतिशत है, जो मानव के लिए सुरक्षित है। शोधकर्ताओं का कहना है कि समुद्री शैवाल बहुतायत में उपलब्ध हैं, इसलिए इसके उपयोग से सिल्वर नैनो कणों के संश्लेषण की लागत को कम किया जा सकता है।

सीएसएमसीआरआई के प्रमुख शोधकर्ता डॉ रामअवतार मीणा ने इंडिया साइंस वायर को बताया कि हमने अगर-एल्डिहाइड एवं सिल्वर नैनो कणों के उपयोग से नैनो कंपोजिट का संश्लेषण किया है, जो रक्त कैंसर, आंतों के कैंसर और स्तन कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को बाधित कर सकते हैं। टाटा मेमोरियल सेंटर में किए गए परीक्षण से पाया गया कि ये नैनो कंपोजिट कैंसर कोशिकाओं को मार सकता है। इसी से माना जा रहा है कि कैंसर उपचार के लिए नैनो-थेरैपी विकसित करने में इसकी उपयोगिता प्रभावी हो सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों का बंगाल बनाना, उन्हें होगी सच्ची श्रद्धांजलि : राज्यपाल धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों का बंगाल बनाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि आगे पढ़ें »

कोलकाता के नजदीक सौर पेड़ से रौशन होंगी पगडंडियां, पार्क

कोलकाता : गैर परंपरागत ऊर्जा को बढ़ावा देने के प्रयास के तहत महानगर के बाहरी इलाके में सैटेलाइट शहर के तौर पर उभर रहे न्यू आगे पढ़ें »

ऊपर