एवोन ने लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा को रोकने के लिए कार्यक्रम लॉन्च किया

नई दिल्ली : एवोन ने एवोन फाउंडेशन फॉर वूमन के साथ मिलकर पूरी दुनिया में 50 अग्रणी सेवाओं और सामाजिक संगठनों के लिए 10 लाख डॉलर के नए वित्ती य सहायता की घोषणा की है। आपातकालीन अनुदान कार्यक्रम को एवोन के आइसोलेट नॉट एलोन अभियान शुरू किया है, जो कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से घरेलू हिंसा के मामलों में हुई वृद्धि को रोकने के लिए है।

यह कोष 250,000 महिलाओं और बच्चोंभ को महत्वापूर्ण मदद उपलब्ध कराएगा, इस वित्तीाय मदद को ब्राजील, मेक्सिको, भारत, फि‍लीपींस, जर्मनी और ब्रिटेन सहित 37 देशों के बीच साझा किया जाएगा। राष्ट्री य महिला आयोग द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, लॉकडाउन की घोषणा के बाद से भारत में महिलाओं द्वारा मदद मांगने के मामले दोगुने हो गए हैं। प्राप्ता हुईं 257 शिकायतों (लॉकडाउन के बाद और केवल मार्च माह में) में से 69 केवल घरेलू हिंसा से संबंधित हैं। भारत में एवोन ने कुल 122,500 डॉलर (लगभग 94 लाख रुपए) की वित्ती य मदद देने के लिए तीन एनजीओ- शक्ति शालिनी, स्वडयं और फैमिली प्लाभनिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफपीएआई) – के साथ भागीदारी की है।

एवोन के मार्केटिंग डायरेक्टदर स्वालति जैन ने कहा कि हम भारत में प्रत्येएक महिला को आश्वीस्त करना चाहते हैं कि वह इस अभूतपूर्व समय में पृथक हो सकती है, लेकिन अकेली नहीं। इस अभियान के साथ, हम उन महिलाओं के साथ मजबूती के साथ खड़े हैं जो लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा का सामना कर रही हैं। हम एवोन फाउंडेशन फॉर वूमन और अपने एनजीओ भागीदारों के साथ इस सहयोग के लिए तत्पिर हैं और उम्मीनद करते हैं कि उनकी पहुंच और हमारी विशेषज्ञता के साथ हम भारत में घरेलू हिंसा के मामलों में कमी लाने में योगदान कर सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

प्रवासी मजूदर हमारे अपने, कोरोना के वाहक नहीं : धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रवासी मजूदरों को कोरोना वायरस (कोविड 19) के वाहक के रूप में निरुपति किये जाने पर आगे पढ़ें »

कोरोना संकट के दौरान दुनिया के कई देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है भारत: गोयल

नई दिल्ली : लॉकडाउन अवधि के दौरान देश ने खुद को कोविड-19 महामारी से लड़ने तथा क्षमता निर्माण के लिए तैयार किया। सुरक्षा उपकरणों (जैसेकि आगे पढ़ें »

ऊपर