ईयरफोन के अधिक इश्तेमाल से हो सकती है कई बीमारियां, पढ़ें

नई दिल्ली : फ़ोन और ईयरफोन आजकल लोगों की जरूरत बन गया है, लेकिन लोगों को यह नहीं पता होता कि हर समय कान में इयरफ़ोन लगाकर रखना स्वास्थ के लिए नुकसानदेह हो सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इयरफोन के अधिक इश्तेमाल के कारण कानों से संबंधित बीमारियां बढ़ रही हैं, लगभग 50 प्रतिशत लोगों में कानों की समस्या ईयरफोन के कारण हो रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक यदि कोई व्यक्ति दो घंटे से अधिक समय तक 90 डेसिबल से अधिक आवाज में संगीत सुनता है, तो उसे कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। इससे आप बहरे भी हो सकते हैं और अगर आप ईयरफोन का इस्तेमाल जरुरत से ज्याोदा करते हैं तो फिर आप को संभलने की जरुरत है।

तेज रफ्तार पकड़ रही है अर्थव्यवस्था, निवेशक निवेश को तैयार : गोयल

कम सुनाई देना
तेज आवाज में संगीत सुनना आपके कानों को नुकसान पहुंचा सकता है , कानों की सुनने की क्षमता महज 90 डेसिबल होती है जो लगातार सुनने से धीरे-धीरे 40 से 50 डेसिबल तक कम हो जाती है। इससे दूर की आवाज सुनाई नहीं देती, जिससे आप बहरेपन की शिकायत होने लगती है। कभी भी 90 डेसीबस से अधिक आवाज में गाने सुनने से बचना चाहिए।

दिल की बीमारी और कैंसर का खतरा
तेज आवाज में संगीत सुनना कानों के साथ ही दिल को भी नुकसान कर सकता है। तेज अवाज में गाने सुनने से हार्ट बीट तेज हो जाती है और वह नार्मल स्पीड से तेज चलने लगती है, जिससे दिल को नुकसान होता है।इससे कैंसर भी हो सकता है। तेज आवाज में ईयरफोन से गाने सुनने पर कान को नुकसान होता है, और अंदरूनी स्वास्थ पर भी बुरा असर पड़ता है।

व्यापारिक तनाव कम करने के लिए मलेशिया भारत से खरीदेगा चीनी

सिर दर्द और नींद की समस्या
हेडफोन और ईयरफोन से निकलने वाली विद्युत चुंबकीय तरंगों से ब्रेन प्रभावित होता है, यही वजह है कि ईयरफोन के अधिक प्रयोग से आपको सिर दर्द या नींद न आने वाली जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा लोग आपस में ईयरफोन को शेयर करते हैं जो गलत है । इससे इंफेक्श।न फैल सकता है। शेयर करने से पहले सैनिटाइजर से अच्छी तरह साफ कर लें।

अधिक इश्तेमाल से कान के पर्दे पर गलत असर पड़ता है, तेज आवाज के चलते आपके कान के पर्दे में लगातार वाईब्रेट होने लगती हैं। कान के पर्दे के फटने की खतरा रहता है। इंसान की कान 65 डेसिबल की आवाज सहन कर पाते है, लेकिन ईयरफोन पर लगातार 90 डेसिबल से अधिक आवाज़ में गाने सुनने पर कान की नसें डेड हो सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आयुर्वेदिक स्प्रे से केएमसी कोरोना के रेड जोन को तब्दील कर रहा है ग्रीन जोन में

केएमसी ने लिया 'वंडर स्प्रे 'का सहारा, राजाबाजार व बेलगछिया में मिली सफलता  सिंकी सिंह, कोलकाता : कोलकाता में कोरोना वायरस का मीटर तेजी से बढ़ आगे पढ़ें »

पीएमओ से बंगाल सरकार को मिला पत्र, 1 जून से शत प्रतिशत कर्मचारी जूट मिलों में करेंगे काम

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि राज्य सरकार ने जूट मिलों को एक जून से 100 प्रतिशत कर्मचारियों के आगे पढ़ें »

ऊपर