इस तकनीक का करें इश्तेमाल, पीरियड के दर्द से मिलेगा निजात

नई दिल्ली : भारत जैसे देश में महिलाएं पीरियड को लेकर बहुत जागरूक नहीं हैं और आम तौर पर सैनेटरी पैड्स का इस्तेमाल करती हैं। हालाँकि मार्केट में मेंस्ट्रुअल कप जैसी चीजें भी आ गई हैं। इसमें लीकेज की समस्या नहीं होती और ये पैड्स और टैम्पून की तुलना में ज्यादा किफायती होते हैं। लैंसेट की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में इसके करीब 199 ब्रांड्स हैं जो 99 देशों में हैं, लेकिन इसको लेकर जागरुकता बिलकुल भी नहीं है।

लैंसेट ने मेंस्ट्रुअल कप के इश्तेमाल, लीकेज, स्वीकार्यता, सेफ्टी, और उपलब्धता को लेकर एक रिपोर्ट तैयार किया, जिसके मुताबिक मेंस्ट्रुअल कप को लेकर महिलाओं की जानकारी काफी कम है। इन कप्स के लीक होने उनकी सुरक्षा और उनकी उपलब्धता के बारे में भी बताया गया है। ग्लोबल लेवल पर ये पहला मेंस्ट्रुअल कप का रिव्यू है। तो चलिए आज हम भी जानते हैं इनके बारे में-
ये कप सिलिकॉन के बने होते हैं जो वजाइना से पीरियड का ब्लड इकट्ठा करने का काम करते हैं। इन्हें 8-10 घंटे से ज्यादा चल जाते हैं और इन्हें उन्ही महिलाओं को बदलना पड़ता है, जिन्हें ज्यादा फ्लो होता है। ये शेप, साइज और मटेरियल में कई तरह के आते हैं।

क्या हो सही साइज
डिलीवरी से पहले महिलाएं छोटे कप साइज का इश्तेमाल कर सकती हैं, डिलिवरी के बाद बड़े साइज की जरूरत होती है। अक्सर 30 साल से कम उम्र की महिलाओं के लिए ये साइज होते हैं और उससे ज्यादा की उम्र वाली महिलाओं के लिए बड़े साइज होते हैं।

लगाने और निकालने का तरीका
इसे लगाने के लिए हाथों को अच्छी तरह धो लें और ल्यूब्रिकेंट ट्यूब या पानी को कप को रिम पर लगा लें। कप को फोल्ड करें और रिम साइज ऊपर की तरफ रखें और इसे वजाइना में डालें। ये टैम्पून की तरह ही इस्तेमाल होगा और इसके बाद इसे रोटेट करें, जिससे कप खुल जाएगा। एकबार ठीक से लगने के बाद यह बहुत सुविधाजनक होता है। इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से बात कर लें।
इसे निकालने के लिए कप की स्टेम की मदद लें। कप का सही साइज क्या हो इसके लिए कुछ रिव्यू पढ़ लें।

क्यों इस्तेमाल करें ?
स्टडी के मुताबिक ये न सिर्फ आपके पैसे बचाएगा, बल्कि कचरा भी कम पैदा करेगा। इसकी कीमत एक बार खदीरने में ज्यादा लगेगी, लेकिन एक कप 6 महीने तक इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऐसे करें साफ
ये 6 महीने तक इस्तेमाल किया जा सकता है, इसे सही तरीके से साफ करना बहुत जरूरी है। इसे वजाइनल वॉश के लिए आने वाले लिक्विड से साफ करें। ये कप काफी सुविधाजनक होते हैं। इन्हें आप स्विमिंग करने से लेकर खेल कूद तक के दौरान इश्तेमाल कर सकती हैं।
इससे आप पीरियड की तकलीफ से भी बच सकती हैं। ये पर्यावरण के लिए भी अच्छे होते हैं, क्योंकि इनसे जितना कचरा 10 सालों में फैलता है, उतना दो बार पीरियड में पैड्स से फैल जाता है। हालाँकि इश्तेमाल से पहले डॉक्टर से राय ले लें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आस्ट्रेलिया ओपन : नडाल और किर्गियोस जीते, प्रदूषित बारिश से कोर्ट पर कीचड़ फैला

मेलबर्न : रफेल नडाल और निक किर्गियोस ने अपने अपने मुकाबलों में जीत के साथ गुरुवार को यहां आस्ट्रेलिया ओपन के पुरुष एकल के तीसरे आगे पढ़ें »

टी20 : पहली बार कीवी टीम के खिलाफ सीरीज जीतने उतरेगी टीम इंडिया

आकलैंड : टी20 विश्व कप की तैयारी के लिये अहम मानी जा रही पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच में शुक्रवार को आत्मविश्वास से आगे पढ़ें »

अजहर के खिलाफ 21 लाख की धोखाधड़ी का मामला, अजहर ने कहा- आरोप बेबुनियाद

नीतीश ने पवन वर्मा को दिया झटका, कहा- जो दल पसंद हो वहां जा सकते हैं, मेरी शुभकामनाएं

मिलावट के बावजूद भारतीय बाजारों में बिकने वाले दूध स्वास्‍थ्य के लिए फायदेमंद

netaji

नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता

ऑस्ट्रेलिया जंगल में फिर बढ़ी आग की लपटें, अभियान में जुटे विमान दुर्घटना में 3 अमेरिकियों की मौत

ईयरफोन के अधिक इश्तेमाल से हो सकती है कई बीमारियां, पढ़ें

मुसलमान विश्व में किसी अन्य स्थान से अधिक सुरक्षित हैं भारत मेंः गोयल

व्यापारिक तनाव कम करने के लिए मलेशिया भारत से खरीदेगा चीनी

ऊपर