क्या परेशान हैं सांस की दुर्गंध से

 

अगर किसी व्यक्ति की सांस से दुर्गंध आती हो तो यह स्थिति उसके लिए काफी कष्टकारक होती है। उसे किसी अन्य व्यक्ति के पास खड़े होने, बैठने, बात करने में काफी झिझक महसूस होती है। सांस की दुर्गंध से परेशान व्यक्ति इसके निदान हेतु कई तरह के प्रयास करते हैं परंतु फिर भी उन्हें इस परेशानी से छुटकारा नहीं मिलता। दरअसल उन्हें यह मालूम नहीं होता कि इसका असली कारण क्या है। इसलिए वे लम्बे समय तक इस परेशानी से जूझते रहते हैं। सांस की दुर्गंध से मुक्ति पाने हेतु जरूरी नहीं कि डाॅक्टरों के पास ही जाएं या फिर एलोपैथिक दवाइयां लें। इस समस्या से निजात पाने हेतु आपको खानपान संबंधी कुछ सावधानियां बरतनी होंगी।
मुंह की दुर्गंध के अनेक कारण हैं, जिन्हें आपके लिए जानना बेहद जरूरी है।
– अगर भोजन के बाद यह समस्या हो तो यह अधिक मसालेदार खाने के कारण भी हो सकती है क्योंकि ऐसे भोजन का स्वाद मुंह में देर तक बना रहता है। इसके अलावा यह इस पर भी निर्भर करता है कि आप कितना खाते हैं।
– भोजन की गंध मुंह में 24 घंटे तक बनी रहती है। इस बीच कहीं बाहर जाना हो तो भोजन में प्याज व लहसुन का सेवन न करें।
– डेयरी प्रॉडक्ट जैसे पनीर, दूध, दही इत्यादि की गंध भी काफी देर तक मुंह में बनी रहती है।
– मछली का सेवन भी मुंह की दुर्गंध को बढ़ाता है। इसकी खराब गंध लम्बे समय तक मुंह में बनी रहती है।
– यह कम लोग जानते हैं कि न खाना भी मुंह की दुर्गंध का कारण बन सकता है। इसके अलावा तेज गति से खाना भी इसका कारण बनता है क्योंकि इससे खाना पूरी तरह चबाया नहीं जाता और वह देर तक मुंह के अंदर रहता है। जो दुर्गंध छोड़ता रहता है।
– कॉफी आदि पदार्थ सांस/मुंह की दुर्गंध का कारण बनने में प्रमुख हैं। ये पदार्थ बाद में आपके मुंह में अपने अवशेष छोड़ देते हैं जिससे दांतों में गंदगी जमा हो जाती है और यह आपके पाचन तंत्र में फैल जाती है।
कैसे करें बचाव :-  नियमित रूप से ब्रश करें। अगर कभी ब्रश करना संभव न हो तो कुल्ला अवश्य करें। भोजन के पश्चात् कुल्ला करने की आदत बना लें। अपने मुंह में पानी डालें, इसे चारों ओर घुमाएं और कुल्ला करें जिससे मुंह से भोजन की गंध निकल जाएगी।
– अगर आप भोजन के तुरंत बाद ब्रश करते हैं तो भोजन की गंध आपके मुंह से स्थायी रूप से हट सकती है या फिर कुछ देर के लिए तो निश्चित तौर पर निकल ही जाती है। चिकनी व चिपचिपी परत मुंह में बने रहना तथा मृत बैक्टीरिया आपके दांतों और मसूड़ों से चिपके रहना मुंह या सांस की दुर्गंध का एक मुख्य कारण हैं। यह परत प्लेक कहलाती है। इसके सूक्ष्म अवयव हमारे मुंह के किसी भी कोने में चिपके रहते हैं और मुंह में गंध इकट्ठी करते रहते हैं। जब आप सांस छोड़ते हैं तो साथ में ऐसे बैक्टीरिया भी छोड़ते हैं इसलिए हर बार भोजन के पश्चात् ब्रश करने का नियम बनाएं। इससे आप सांस की दुर्गंध संबंधी सभी परेशानियों से मुक्ति पा सकते हैं।
– जब आप रेस्टोरेंट में खाना खाते हैं और भोजन के पश्चात् आप ब्रश नहीं कर सकते तो अपने पानी के गिलास में से पानी का घूंट भरें और दांतों में चारों तरफ घुमाएं। इससे भोजन के कण दांतों से चिपके नहीं रहेंगे।
– थोड़े समय के लिए सांस की दुर्गंध से छुटकारा पाने के लिए आप किसी भी माउथवाश से कुल्ला करें। इससे आप 20 मिनट तक मुंह या सांस की दुर्गंध से बचे रह सकते हैं।
– मुंह को दुर्गंधमुक्त रखने के लिए पुदीने से बने माउथवाश का प्रयोग करें या पुदीने की गोली खाएं। थोड़े समय के लिए मुंह में इसका असर बना रहेगा और आप इस परेशानी से राहत पा सकेंगे।
– कुछ मसाले और जड़ी-बूटियां आपकी सांस को प्राकृतिक बनाए रखने में सहायक होते हैं। भोजन के पश्चात् सौंफ चबाएं।
– आमतौर पर लोग ब्रश करते समय जीभ को नजर अंदाज कर देते हैं। हमारी जीभ में छोटे-छोटे बाल होते हैं, जिन्हें अगर माइक्रोस्कोप से देखा जाए तो यह मशरूम का जंगल दिखाई देते हैं। इसमें खाली जगह होती है जिसमें प्लेक और भोजन के अंश चिपके होते हैं जो मुंह की दुर्गंध का कारण बनते हैं इसलिए जब भी दांतों पर ब्रश करें, जीभ को भी हल्के से साफ करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

इस दिशा में सिर रखकर भूलकर भी न सोएं, जानिए किस तरह सोने से मिलेगा लाभ

कोलकाताः अच्छी सेहत के लिए भरपूर नींद लेना जरूरी है। दिनभर थकने के बाद हम रात को सोते समय इस बात का ध्यान नहीं रखते आगे पढ़ें »

यहां बोरिंग से पानी की जगह निकल रही है आग

मध्य प्रदेश : प्राकृतिक खनिजों से भरे मध्य प्रदेश से एक और हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। राज्य के दमोह जिले के आगे पढ़ें »

ऊपर