राम मंदिर निर्माण की प्रतीक्षा में उर्मिला चतुर्वेदी ने 28 साल से नहीं खाया अन्न

जबलपुर : अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो इसके लिए लाखों लोगों ने सहभागिता दी, जिनमें कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्होंने मन ही मन राम मंदिर निर्माण का संकल्प ले लिया और तपस्या की, उनमें से एक हैं जबलपुर की उर्मिला चतुर्वेदी, जो पिछले 28 सालों से लगातार अन्न त्यागकर व्रत कर रही हैं। 81 साल की उर्मिला चतुर्वेदी आज भले ही उम्र के इस पड़ाव में आकर कमजोर नजर आ रही हैं, लेकिन इनका संकल्प बेहद मजबूत है।
अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर‌ के लिए लिया ऐसा संकल्प
पिछले 28 सालों से केवल इसलिए उपवास किया क्योंकि वे अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बनते हुए देखना चाहती थीं। सन् 1992 में जब कारसेवकों ने राम जन्मभूमि पर बने बाबरी मस्जिद के ढांचे को गिराया और वहां खूनी संघर्ष हुआ तब जबलपुर के विजय नगर इलाके की रहने वाली उर्मिला चतुर्वेदी ने संकल्प ले लिया था कि अब वह अनाज तभी खाएंगी, जब देश में भाईचारे के साथ अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कराया जाएगा।
सालों की तपस्या के बाद अब मिलेगा फल
सालों की तपस्या के बाद आज जब उर्मिला चतुर्वेदी का सपना साकार हो रहा है तो वह बेहद अभिभूत हैं। उन्होंने संकल्प लिया था कि जब तक अयोध्या में भाईचारे के साथ राम मंदिर निर्माण का काम शुरू न हो जाए तब तक वह अनाज ग्रहण नहीं करेंगी। उन्होंने 1992 के बाद खाना नहीं खाया और सिर्फ फलाहार से ही जिंदा रहीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बेदम रही टैक्सी हड़ताल, पर संगठन ने आस नहीं छोड़ी

कोलकाता : एटक समर्थित वेस्ट बंगाल टैक्सी ऑपरेटर कोआर्डिनेशन कमेटी ने अपनी मांगों को लेकर सोमवार को टैक्सी हड़ताल का  आह्वान किया था। हालांकि हड़ताल आगे पढ़ें »

जीएसटी क्षतिपूर्ति के लिए इंतजार करना पड़ सकता है पश्चिम बंगाल को

  नई दिल्ली : 5 अक्टूबर को जीएसटी काउंसिल की बैठक है | कोरोना संकट के बीच जीएसटी मुआवजे के मुद्दे पर केंद्र सरकार की कर्ज आगे पढ़ें »

ऊपर