ब्रेस्ट कैंसर में योग से राहत, सर्वाइवल रेट 20 पर्सेंट से ज्यादा पाया गया : स्टडी

नई दिल्ली : एम्स और आईसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) की एक रिपोर्ट के मुताबिक योग से ब्रेस्ट कैंसर के एडवांस्ड स्टेज के बावजूद 20 पर्सेंट ज्यादा लाइफ बढ़ सकती है। इस रिपोर्ट के मुताबिक जिन मरीजों को इलाज के साथ-साथ सुदर्शन क्रिया और प्राणायाम कराया गया, उनमें सर्वाइवल रेट 20 पर्सेंट ज्यादा पाया गया, क्वॉलिटी ऑफ लाइफ बेहतर हुई, दर्द से बचने के लिए मॉरफीन का डोज कम हुआ। इनका कॉर्टीसोल केमिकल यानी ट्यूमर भी कम हुआ।

आईसीएमआर की साइंटिस्ट नीता कुमार के अनुसार इस स्टडी में शामिल किए गए सभी मरीज ब्रेस्ट कैंसर के एडवांस स्टेज के थे, जिनकी सर्जरी, रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी तक हो चुकी थी। दर्द से बचाने के लिए इन्हें मॉरफीन दिया जा रहा था। इस स्टडी में 88 महिलाएं शामिल थी, जिन्हें दो ग्रुप में बांटा गया था। एक ग्रुप में 50 मरीजों को रखा गया, जिन्हें दर्द की दवा के साथ काउंसलिंग दी जाती थी महिलाओं को रखा गया था, दूसरे ग्रुप में 38 मरीज थीं, जिन्हें दर्द की दवा, काउंसलिंग के अलावा यौगिक क्रियाएं कराई गईं। डॉक्टर नीता ने बताया कि योग करने वाली महिलाओं को तीन दिन की ट्रेनिंग दी गई, जिसमें उन्हें प्राणायाम, सुदर्शन क्रिया की ट्रेनिंग दी गई और रोजाना 20 मिनट तक के लिए नियमित रूप से योग करने की सलाह दी गई। तीन महीने के बाद सभी महिला मरीज का ब्लड सैंपल लिया गया और छह महीने बाद इनका ब्लड सैंपल लिया गया।

छह महीने के अंत तक जो केवल दवाई पर थे, उनका सर्वाइवल रेट 46 पर्सेंट पाया गया, जिन्हें दवा के साथ योग कराया गया था, उनमें सर्वाइवल रेट 65.8 पर्सेंट पाया गया। आयुष के फंड से यह रिसर्च किया गया, जिसमें योग के महत्व का असर देखा गया। सर्वाइवल रेट के अलावा इनकी क्वालिटी ऑफ लाइफ बेहतर हुई, इनका पेन कम हो गया। डॉक्टरों ने पाया कि जो लोग योग कर रहे थे, वे खुश थे, ऐसा लग नहीं रहा था वे इतनी बड़ी बीमारी से पीड़ित हैं, जबकि दूसरी ओर जो योग नहीं कर रहे थे, वे चितिंत और परेशान दिख रहे थे। उन्हें दर्द ज्यादा था। हालाँकि यह स्टडी छोटी, जिस पर व्यापक अध्ययन की जरूरत है। हमने फॉलोअप में देखा कि 80 पर्सेंट मरीज रेगुलर योग नहीं कर रहे थे, अगर रेगुलर करते तो और फायदा हो सकता था। इसलिए इस पर बड़े लेवल और लंबे समय तक स्टडी की जाए तो योग के इफेक्ट का और बेहतर रिजल्ट देखा जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अध्यापिका के पद से बैशाखी का इस्तीफा

कोलकाता : मिली अल-अमीन कॉलेज की अध्यापिका के पद से बैशाखी बंद्योपाध्याय ने इस्तीफा दे दिया है। गुरुवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को मेल आगे पढ़ें »

33वां मूर्ति देवी पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे कवि डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

नयी दिल्ली : साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष और जाने माने कवि-आलोचक डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को प्रतिष्ठित 33वें मूर्तिदेवी पुरस्कार के लिए चुना गया आगे पढ़ें »

ऊपर