कन्या राशिफल 14 जून से 20 जून

virgo-daily-horoscope

कन्या राशि

कन्या : आनंददायक स्थिति बन सकती है, कोई रुका काम किसी आत्मीय के सहयोग से संभव है, मन में उत्साह का संचार रहेगा।
साप्ताहिक राशिफल:आपके मस्तिष्क में बहुत सारे प्रश्न उठते रहेंगे जिनका संतान संबंधी चिंता के सिवाय और कोई समाधान शायद ही हो। काम धंधे की गति भी बहुत अच्छी नहीं कही जा सकती लेकिन काम चलता रहेगा कानूनी बातों को लेकर चिंता हो सकती है। घरेलू ​ बातों में आपका निर्णय अर्थ रखेगा इसलिए सोच समझ जरूरी होगा। दिनांक 12 को विश्राम, 13 को चिंता, 14 को तनाव, 15 के सुधार, 16 को लाभ, 17 को प्रगति, 18 को सुख। कन्या लग्न के लिए सप्ताह सामान्य रहने की आशा है। शुभ दिन 14,15 और 17 अप्रैल एवं शुभांक 1-4-7।

कन्या वार्षिक राशिफल 2020: यह वर्ष कुछ समस्याआें के साथ उनका समाधान भी लाता रहेगा और यदि आप अपने व्यवहार और निर्णय क्षमता को समयानुसार बनाए रख सकें तो आपको घबराने की आवश्यकता नहीं होगी। मनमाने ढंग से काम करने से अवश्य परेशानी हो सकती है। वर्ष की पहली तिमाही अर्थात् जनवरी, फरवरी और मार्च में अधूरे काम पूरे करने की चेष्टा में सफलता मिल सकती है किन्तु घरेलू या पा​रिवारिक व्यवस्था में अड़चनें आने से तनाव में वृद्धि होगी जिसका प्रभाव शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। आवश्यक खर्च के अलावे कुछ ऐसे खर्च भी हो सकते हैं जिसकी आवश्यकता नहीं होगी। इससे आर्थिक स्वच्छन्दता वाधित हो सकती है। मन का संशय यदि दूर किया जाय तो और तो कठिनाइयां कम हो सकती है। यह तिमाही यदि आप सामान्य बनाये रखने की चेष्टा करें तो सुखद स्थिति बनी रहेगी।

दूसरी तिमाही अर्थात् अप्रैल, मई ओर जून में चिन्ता को बढ़ाने वाली कुछ घटनाएं हो सकती हैं किन्तु खर्च में कमी होगी जिससे आर्थिक संचय कर सकेंगे और ऋण आदि से बच सकेंगे। इस अवधि में पारिवारिक उलझने बढ़ सकती हैं जिसे आपसी प्रयास से दूर किया जा सकता हैं। सन्तान पक्ष से कुछ चिन्ता का कारण बन सकता है जिसको दूर करने में कठिनाई हो सकती है। आपके कर्मक्षेत्र पर छिटपुट प्रतिकूल स्थिति बन सकती है। जीवनसाथी से मतभेद हो सकता है ​फिर भी जहां तक हो सके हठ और अभिमान का त्याग करने से इसका समाधान भी हो सकता है और घर- गृहस्थी की अशांति भी दूर हो सकती है। इस अवधि में संशय और भ्रम से अपने को बचाए रखने से सामाजिक और पारिवारिक प्रतिष्ठा अक्षुण्ण रहेगी। तीसरी तिमाही अर्थात् जुलाई, अगस्त और सितम्बर मिला- जुला परिणाम दे सकती है। इस अवधि में कुछ प्रसन्नतादायक घटना हो सकती है जिसका उपयोग अपनी उन्नति के लिए करना उचित होगा। किसी अन्य के विवाद में टांग अड़ाना या मध्यस्थता करना उचित नहीं होगा। किसी आत्मीय का स्वास्थ्य चिन्ताकारक हो सकता है। जमीन- जायदाद को लेकर अभी कोई कानूनी कदम उठाना उचित नहीं होगा। अर्थागम के लिए किसी भी अनुचित प्रयास का सहारा लेना तो दूर रहा सोचना भी कष्टदायी हो सकता है। सट्टा आदि से बचते रहना समस्या को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है। खानपान पर विशेष ध्यान रखना उचित होगा। मन को जितना शांत रखें, उतना ही फायदा में रहा जा सकता है। कोई भी यात्रा आवश्यक हो तभी करना अच्छा होगा।

चौथा तिमाही अर्थात् अक्टूबर, नवंबर अौर दिसंबर उन्नतिदायक हो सकती है। प्रसन्नता के कई पल आ रहे हाेंगे। परिवार में कोई नया सदस्य आ सकता है, चाहे जन्म से या वैवाहिक संबंध से। आर्थिक गतिविधियां बढ़ेगी और मान-सम्मान की मात्रा भी अधिक रहेगी। उलझनें दूर होंगी और नए काम की जग रही प्रवृत्ति को सक्रिय होने देना भी सफलता की आरंभ यात्रा होगी फिर भी छोटी से छोटी घटना भी तनाव में डाल सकती है। महिलाएं भी कुछ करने की चेष्टा कर सकती हैं और अपने को प्रमाणित कर सकेंगी। विद्यार्थी सक्रिय रहेंगे। सिंह लग्न के लिए वर्ष प्रगति की ओर रहेगा। अच्छे परिणाम के लिए नित्य 11 हनुमान चालीसा का पाठ करना सहायक होगा। वर्ष शुभांक 4, 6 और 8।

कन्या राशि वाले ऐसे होते हैं (जिनके नाम का पहला अक्षर हो – टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) : कन्या राशि के लोग संकोची और शर्मीले होते हैं तथा हर काम को खूबसूरती से पूरा करते हैं। दूसरों की तुलना में इनके सोचने का तरीका बहुत अलग होता है और हर चीज को नियंत्रण में रखने की क्षमता रखते हैं। इन्हें अकारण क्रोध नहीं आता, किन्तु जब क्रोध आता है तो जल्दी समाप्त नहीं होता और जिसके कारण क्रोध आता है उसके प्रति घृणा की भावना इनके मन में भर जाती है। कुर्सी पर बैठकर करने वाले कार्य को ज्यादा पसंद करने वाले कन्या राशि के लोग चीजों का अच्छे से प्रबंध करते हैं। ये लोग स्वभाव से बहुत उत्सुक होते हैं, जो इन्हें नई-नई चीज़ें सीखने के लिए उत्सुक करता है।

कन्या राशि के लोग स्वभाव से रहस्यमय प्रकृति के होते हैं और ये अपनी प्राइवेसी को सबसे ऊपर मानते हैं। वे आसानी से दूसरों पर भरोसा नहीं करते, इसलिए ये लोगों के सामने खुलने में थोड़ा समय लेते हैं। स्वादिष्ट खाना इस राशि के जातकों की कमजोरी हो सकती है। इन पर इस बात का कोई असर नहीं होता कि लोग इनके बारे में क्या सोच रहे हैं। कोमल हृदय और सहयोगी विचारधारा वाले अपने मित्रों और परिजनों के लिए हर समय सहयोग देने के लिए तैयार रहते हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

बंगाल के संक्रमित जोन में 9 जुलाई से लगेगा पूर्ण लॉकडाउन

कोलकाता : बंगाल में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से संक्रमित जोन में 9 जुलाई शाम 5 बजे से पूरी तरह से आगे पढ़ें »

ऊपर