वकीलों से विवाद मामले में अब धरने पर बैठी पुलिस, मनाने पहुंचे कमिश्नर

delhi police strike

नई दिल्ली : दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस और वकीलों के बीच शनिवार दोपहर को हुआ विवाद सोमवार को काफी बढ़ गया। दिल्ली पुलिस के जवान सड़कों पर उतर आए और घटना का जमकर विरोध करते हुए पुलिस मुख्यालय के सामने धरने पर बैठ गए। जवान अपने हाथ में काली पट्टी बांधकर पहुंचे। बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों का बढ़ता विरोध देख कर कमिश्नर अमूल्य पटनायक खुद मौके पर पहुंचे और जवानों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने पुलिसकर्मियों से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा, आप सभी कानून के रखवाले हैं और मैं चाहता हूं कि आप रखवाले की तरह ही व्यवहार करें। कानून व्यवस्‍था को बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। साथ ही उन्होंने सभी जवानों से काम पर लौटने की अपील की, लेकिन इस दौरान लगातार वहां पर हाय-हाय के नारे लगते रहे। साथ ही पुलिसकर्मी पोस्टर और तख्तियों को दिखाकर अपना विरोध जताते रहे। इतना ही नहीं भड़के पुलिसकर्मियों ने कमिश्नर से इस्तीफे की भी मांग कर डाली। वहीं दिल्ली पुलिस ने वकील और पुलिस झड़प मामले की विस्तृत रिपोर्ट गृहमंत्रालय को सौंप दिया।

पहले से हड़ताल पर हैं वकील

दिल्ली में इसी मामले को लेकर पहले ही वकीलोें ने हड़ताल कर रखा है। सभी जिला अदालतों में मंगलवार काे भी वकील हड़ताल पर हैं। किसी भी अदालत में जज के सामने वकील न तो खुद पेश हो रहे हैं और न ही मुवक्किल को जाने दे रहे हैं। वकीलों की मांग है कि तीस हजारी कोर्ट में हमला करने वाले पुलिसकर्मियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। हालांकि, शीर्ष न्यायालय और दिल्ली उच्च अदालत में इस हड़ताल का कोई असर नहीं है।

वर्दी पहनने में लग रहा है डर

प्रदर्शन कर रहे जवानों का कहना है कि हमारे साथ ज्यादती हो रही है,जो गलत है। प्रदर्शन कर रहे पुलिस जवान का कहना है कि उन्हें वर्दी पहनने में डर लग रहा है, क्योंकि वर्दी देखते ही वकील पुलिस जवानों को पीटने लगते हैं।

समान रूप से‌ मिलनी चाहिए सजा

जवानों का कहना है कि पुलिसवालों के साथ सही व्यवहार होना चाहिए और कानून के अनुसार समान रूप से सजा मिलनी चाहिए। प्रदर्शन कर रहे एक जवान ने कहा कि पिछले 3 दिनों से वकील लगातार पुलिस और आम लोगों के खिलाफ गलत बर्ताव कर रहे हैं और वरिष्ठ अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

पुलिस जवानों से डीसीपी ने किया अपील

प्रदर्शन कर रहे पुलिस जवानों से डीसीपी ने अपील करते हुए कहा कि अभी अदालत का आदेश आया है, आप लोग संयम बरतें। उन्होंने जावानों को आश्वासन दिया कि इस मामले की चर्चा सीनियर लेवल पर चल रही है। साथ ही जवानों से कहा कि वह अपनी ड्यूटी पर वापस लौटें।

बार काउंसिल ने वकीलों को दी चेतावनी

वहीं बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने पूरे मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए वकीलों को चेतावनी दी है। बार काउंसिल ने हड़ताल पर गए सभी वकीलों से कहा कि वे तत्काल काम पर लौटें नहीं तो इस संबंध में कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोनम वांगचुक के चीनी उत्पादों के बहिष्कार अभियान को व्यापारियों का मिला समर्थन

नई दिल्ली : कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि देश के सात करोड़ व्यापारी लद्दाख के शैक्षिक सुधारक सोनम वांगचुक के आगे पढ़ें »

पूर्व पाक कप्तान हनीफ का दावा, 1983 में हॉकी टीम के सदस्‍य तस्‍करी में लिप्‍त थे 

कराची : पाकिस्तान के पूर्व हॉकी कप्तान हनीफ खान ने आरोप लगाया कि 1983 में हांगकांग से वापस आते समय उनकी टीम के कुछ खिलाड़ियों आगे पढ़ें »

ऊपर