पाक ने रोकी समझौता एक्सप्रेस, भारतीय फिल्मों पर भी बैन

Pak stopped the Samjhauta Express, Indian films are also banned

नई दिल्ली : जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट अब सामने आ गई है। वह अब एसे कदम उठा रहा है ‌जिससे उसकी किरकिरी हाे रही है। बीते दिनों उसने तल्‍खी दिखाते हुए भारतय राजदूत को वापस भेज दिया। अब इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए उसने गुरुवार को समझौता एक्सप्रेस को वाघा बॉर्डर पर रोक दिया जिससे कई लोग वाघा बॉर्डर पर फंस गए। इसके अलावा पाकिस्तान ने देश में भारतीय फिल्मों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

पाकिस्तानी ड्राइवर और गार्ड भेजने से इनकार

इस मामले में लिए गए फैसले के बाद पाकिस्तान ने बताया कि वह भारत की सीमा में अपने गार्ड और ड्राइवर को नहीं भेजेगी। उसने भारत को अपना ड्राइवर और गार्ड भेजने की बात कही। इस बेतुकी हरकत से कई यात्री ट्रेन में असमंजस की स्थिति में फंस गए हैं। भारत की ओर से इस बात की पुष्टि की गई कि वह अपना गार्ड और ड्राइवर भेजकर ट्रेन को अपनी सीमा में लाएगा।

एयर स्ट्राइक के बाद भी बंद हुई थी ट्रेन

बता दें कि पाकिस्तान पर किए गए एयर स्ट्राइक के बाद भी समझौता एक्सप्रेस की आवाजाही रोक दी गई थी। गत 4 मार्च से इस सेवा को फिर से बहाल किया गया था। इस बार उसने फिर से इसे रोकने का ऐलान किया है। उसने बुधवार को भारत के साथ व्यापार रोकने और राजनयिक संबंधों में कटौती की घोषणा की थी।

अपने ड्राइवर भेजकर ट्रेन ले जाओ

पाकिस्तान के क्रू गार्ड ने ट्रेन बाघा बॉर्डर के पास खड़ी कर दी है। पाकिस्तान ने सुरक्षा कारणों से ट्रेन को अटारी लाने में असमर्थता जताई। हालांकि भारत की उत्तर रेलवे ने उन्हें आश्वस्त किया कि सुरक्षा को लेकर भारत में किसी को कोई खतरा नहीं है। लेकिन, पाकिस्तानी ड्राइवर ने ऐसा नहीं किया और इंडियन क्रू गार्ड को ही पाक भेजकर ट्रेन को भारत की सीमा में ले जाने को कहा है।

शिमला समझौते में पास हुई थी रेल सेवा

समझौता एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन दिल्ली से अटारी और पाकिस्तान के लाहौर के बीच आैर वहां से दो दिन लाहौर से वापस दिल्ली के लिए चलती है। यह ट्रेन दोनों देशों के बीच हुए शिमला समझौते के बाद 22 जुलाई, 1976 को अमृतसर से खुली थी और लगभग 52 किलोमीटर दूरी तय करते हुए लाहौर पहुंची थी।

भारतीय फिल्मों पर रोक

पाकिस्तान ने अपने अगले कदम के तहत भारतीय फिल्मों पर भी रोक लगा दी है। पाक सूचना एवं प्रसारण मामले के विशेष सलाहकार डॉक्टर फिरदौस आशिक अवान ने बताया कि ‘पाकिस्तान के सिनेमाघरों में कोई भी हिंदुस्तानी फिल्म नहीं दिखाई जाएगी।’

दबाव में है पाकिस्तान

दरअसल, जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म किए जाने के बाद से पाक की इमरान सरकार कट्टरपंथियों और सेना के जबर्दस्त दबाव में आ गई है। यही कारण है कि पाकिस्तान सरकार भारत के प्रति कड़ा विरोध दिखाना चाहती है। पाकिस्तान में भारत के इस फैसले को इमरान सरकार की नाकामी के रूप में देखा जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ओडिशा में विवाहित महिला से सामूहिक बलात्कार,महिला अधिकारी को सौंपा केस

संबलपुर : देश में बलात्कार की घटनाएं थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। हैदराबाद,उन्नाव और मालदह की घटना के बाद अब ओडिशा के आगे पढ़ें »

सऊदी के रेस्तरां में एक साथ प्रवेश कर सकेंगे पुरुष और महिला

रियाद : सऊदी अरब की सरकार लगातार रूढ़िवादी विचारधारा को छोड़कर खुली सोच को अपना रही है। इस दिशा में काम करते हुए सऊदी की आगे पढ़ें »

ऊपर