सीएए विरोधी हिंसा में पुलिस की गोली से कोई नहीं मरा : योगी आदित्यनाथ

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को दावा किया कि सीएए के खिलाफ गत 19 दिसंबर को राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसा के दौरान एक भी व्यक्ति पुलिस की गोली लगने से नहीं मरा।
मुख्यमंत्री ने विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा, ‘जो लोग मरे हैं, वे उपद्रवियों की गोली से ही मरे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अगर कोई व्यक्ति किसी निर्दोष को मारने के लिए निकला है और वह पुलिस की चपेट में आता है तो या तो पुलिसकर्मी मरे, या फिर वह मरे.. किसी एक को तो मरना होगा, लेकिन एक भी मामले में पुलिस की गोली से कोई नहीं मरा है।’ मुख्यमंत्री ने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के मामले में पुलिस कार्रवाई की तारीफ करते हुए कहा,‘अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वह जिंदा कैसे हो जाएगा?’ योगी का यह बयान विपक्ष के इन आरोपों के परिप्रेक्ष्य में महत्वपूर्ण है कि सीएए विरोधी हिंसा में मरे सभी लोग पुलिस की गोली से ही मारे गए हैं और इस वजह से पुलिस मृतकों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट उनके परिजनों को नहीं दे रही है। प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में सीएए के खिलाफ दिसंबर में हुए हिंसक प्रदर्शनों के दौरान 21 लोगों की मौत हुई थी। योगी ने कहा, ‘सीएए के खिलाफ हिंसा हमें इस बारे में फिर सोचने को मजबूर करती है। आंदोलन में पीछे से हिंसा कर रहे लोगों को राजनीतिक संरक्षण था। गत 15 दिसंबर को जामिया मिलिया इस्लामिया में हिंसा हुई तो मैंने अलीगढ़ प्रशासन को सतर्क रहने को कहा। उस रात 15 हजार छात्र सड़क पर उतरकर अलीगढ़ को जलाना चाहते थे। अंदर से पहले पत्थर और फिर पेट्रोल बम फेंके गए। उसके बाद असलहे चले। कुलपति के लिखित अनुमति देने पर ही पुलिस अंदर गयी और हल्का बल प्रयोग किया।’ विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर हुई चर्चा के बाद योगी ने बुधवार को अपने जवाब में समाजवादी पार्टी और इसके नेता मुलायम सिंह यादव और अघ्यक्ष अखिलेश यादव को निशाने पर रखा। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने रामभक्तों पर गोली चलवाई और बाद में कहा भी कि जो किया सही किया, वे आज दंगाइयों पर हुई कार्रवाई पर सरकार से जवाब मांग रहे हैं। उन्होंने मुलायम सिंह यादव का नाम नहीं लिया और कहा कि बच्चियों की सुरक्षा पर आज सवाल उठाने वालों के नेता ने बलात्कार के सवाल पर कहा था कि लड़कों से गलती हो जाती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसा फैलाने वाले उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर कोई शांतिपूर्वक प्रदर्शन करता है तो वह कर सकता है लेकिन उपद्रव करने पर कठोर कार्रवाई होगी। ऐसे लोग जिस भाषा में समझना चाहते हैं उन्हें समझाया जायेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्रिकेट नहीं हुए तो इंग्लैंड व वेल्स क्रिकेट बोर्ड को 30 करोड़ पौंड का नुकसान

लंदन : इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के प्रमुख टॉम हैरिसन ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण अगर आगामी सत्र में क्रिकेट नहीं आगे पढ़ें »

विम्बलडन रद्द होने का असर नहीं, तय समय पर हीअमेरिकी ओपन : आयोजक

न्यूयार्क : कोरोना वायरस महामारी के कारण विम्बलडन रद्द हो गया और फ्रेंच ओपन स्थगित कर दिया गया लेकिन अमेरिकी ओपन के आयोजकों ने कहा आगे पढ़ें »

क्यूबा का ओलंपिक चैंपियन पहलवान बोरेरो कोरोना की चपेट में

2011 विश्‍व कप : धोनी के विजयी छक्के को ज्यादा त्वज्जो देने से गंभीर नाराज, कहा- पूरी टीम की वजह से बने थे विश्व चैम्पियन

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

टोक्यो ओलंपिक पर समर्थन के लिये आईओसी प्रमुख बाक ने मोदी का आभार जताया

डकवर्थ-लुईस नियम बनाने वाले 78 साल के गणितज्ञ लुईस का निधन

चीन की मैन्यूफैक्चरिंग रिकवरी क्रूड के लिए अच्छा सौदा, सोने की चमक फीकी

पंत के छक्का लगाने के चैलेंज पर रोहित ने कहा- उसे खेलते हुए एक साल भी नहीं हुआ और चुनौती दे रहा

ऊपर