खत्म होने वाला था विमान का ईंधन, लखनऊ में न उतारते तो 153 मरते

मुंबई : मुंबई से दिल्ली जा रही विस्तारा एयरलाइंस के ए-320 विमान की लखनऊ में लैंडिंग कराई गई। इस विमान में 153 यात्री सवार थे। बताया जा रहा है कि लखनऊ में लैंडिंग के दौरान विमान में मात्र 300 किलोग्राम ईंधन बचा ‌था। विमान चालक की मानें तो इतने कम ईंधन में विमान ‌सिर्फ 10 मिनट तक ही उड़ान भर सकता था। मालूम हो कि यह घटना 15 जुलाई को सामने आई थी।
डीजीसीए पायलट पर प्रतिबंद्ध लगाया
‌वहीं विमान विशेषज्ञों ने बताया कि विस्‍तारा के ए-320 नियो विमानों में अतिरिक्त 60 मिनट तक उड़ान भरने जितना ईंधन होता है। इस ईंधन का इस्तेमाल उस समय किया जाता हैं, जब किसी कारण विमान को दूसरे एयपोर्ट की तरफ मोड़ दिया जाता है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि विमान हादसे की आशंका को देखते हुए विमानन नियामक नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने विस्‍तारा के एक पायलट के ‌‌विमान उड़ाने पर प्रतिबंद्ध लगा दिया है।
लखनऊ की बजाय विमान को प्रयागराज में लैंडिंग का निर्णय
वहीं विमान के लैंडिंग को लेकर विस्तारा ने खराब मौसम का हवाला दिया है। उसका कहना है मौसम खराब होने की वजह से ए-320 नियो विमान को दिल्ली की जगह लखनऊ के लिए मोड़ दिया गया। वहीं दूसरी ओर लखनऊ के आसमान में विजिबिलिटी यानी दृश्‍यता अचानक कम होने की वजह से पायलटों ने अपनी सूझबझ से ‌विमान को कानपुर या प्रयागराज जैसे वैकल्पिक हवाईअड्डों पर उतरने का फैसला किया।

बता दें कि विमान जब प्रयागराज के रास्ते में था, तब लखनऊ एटीसी (हवाई यातायात नियंत्रण) ने लखनऊ में मौसम साफ होने की जानकारी दी। जानकारी मिलते ही पायलटों ने वापस लखनऊ जाने का निर्णय लिया। पायलटों के अनुसार वहां यात्रियों और विमान के लिए सुरक्षित जगह है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पूर्वोत्तर के विद्यार्थियों ने किया दिल्ली में जंतर मंतर पर प्रदर्शन

नई दिल्ली : पूर्वोत्तर राज्यों के विद्यार्थियों ने नागरिकता संशोधन अधिनियम को संविधान विरोधी और क्षेत्र के मूल लोगों के लिए खतरा करार देते हुए आगे पढ़ें »

संयुक्त राष्ट्र की जलवायु परिवर्तन पर बातचीत अधर में

मैड्रिड : संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक समय सीमा बीत जाने के बाद कई देशों के बीच जलवायु परिवर्तन पर बातचीत को लेकर गतिरोध अब भी आगे पढ़ें »

ऊपर