खत्म होने वाला था विमान का ईंधन, लखनऊ में न उतारते तो 153 मरते

मुंबई : मुंबई से दिल्ली जा रही विस्तारा एयरलाइंस के ए-320 विमान की लखनऊ में लैंडिंग कराई गई। इस विमान में 153 यात्री सवार थे। बताया जा रहा है कि लखनऊ में लैंडिंग के दौरान विमान में मात्र 300 किलोग्राम ईंधन बचा ‌था। विमान चालक की मानें तो इतने कम ईंधन में विमान ‌सिर्फ 10 मिनट तक ही उड़ान भर सकता था। मालूम हो कि यह घटना 15 जुलाई को सामने आई थी।
डीजीसीए पायलट पर प्रतिबंद्ध लगाया
‌वहीं विमान विशेषज्ञों ने बताया कि विस्‍तारा के ए-320 नियो विमानों में अतिरिक्त 60 मिनट तक उड़ान भरने जितना ईंधन होता है। इस ईंधन का इस्तेमाल उस समय किया जाता हैं, जब किसी कारण विमान को दूसरे एयपोर्ट की तरफ मोड़ दिया जाता है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि विमान हादसे की आशंका को देखते हुए विमानन नियामक नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने विस्‍तारा के एक पायलट के ‌‌विमान उड़ाने पर प्रतिबंद्ध लगा दिया है।
लखनऊ की बजाय विमान को प्रयागराज में लैंडिंग का निर्णय
वहीं विमान के लैंडिंग को लेकर विस्तारा ने खराब मौसम का हवाला दिया है। उसका कहना है मौसम खराब होने की वजह से ए-320 नियो विमान को दिल्ली की जगह लखनऊ के लिए मोड़ दिया गया। वहीं दूसरी ओर लखनऊ के आसमान में विजिबिलिटी यानी दृश्‍यता अचानक कम होने की वजह से पायलटों ने अपनी सूझबझ से ‌विमान को कानपुर या प्रयागराज जैसे वैकल्पिक हवाईअड्डों पर उतरने का फैसला किया।

बता दें कि विमान जब प्रयागराज के रास्ते में था, तब लखनऊ एटीसी (हवाई यातायात नियंत्रण) ने लखनऊ में मौसम साफ होने की जानकारी दी। जानकारी मिलते ही पायलटों ने वापस लखनऊ जाने का निर्णय लिया। पायलटों के अनुसार वहां यात्रियों और विमान के लिए सुरक्षित जगह है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Nirmala-Sitharaman

आम बजट में टैक्स सुधारों के लिए वित्त मंत्रालय ने संगठनों से मांगे सुझाव

नई दिल्ली : आम बजट में टैक्स सुधारों के लिए वित्त मंत्रालय उद्योग जगत और उससे जुड़े विभिन्न संगठनों-संस्थाओं से राय ली जा रही है। आगे पढ़ें »

Supreme court

केवल सबरीमाला में ही महिलाओं का प्रवेश वर्जित नहीं, अन्य धर्मों में भी है ऐसा- रंजन गोगोई

नई दिल्ली : सबरीमाला मामले में पुनर्विचार याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने सात न्यायाधीशों की पीठ के पास यह मामला भेज दिया है। यह फैसला आगे पढ़ें »

ऊपर