बाढ़ की चपेट में कोल्हापुर , 51 हजार लोगों के राहत बचाव में जुटी नौसेना

Kolhapur in the grip of floods, Navy engaged in rescue rescue of 51 thousand people

मुबंई : महाराष्ट्र में कोल्हापुर समेत कई इलाकों में बारिश का कहर जारी है। भारी बारिश के कारण्‍ा लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। कोल्हापुर में बीते दिनों से हो रही बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात बन चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश और बाढ़ की वजह से यहां करीब 200 गांव समेत 51 हजार लोग प्रभावति हुए हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि गावों के अलावा 340 से ज्यादा पुल भी बाढ़ की चपेट में हैं। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में कोल्हापुर के अलावा सांगली क्षेत्र में भी बारिश का कहर जारी है। दोनों ही क्षेत्रों में बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए सरकार की ओर से नौसेना की पांच टीमों को राहत बचाव के कार्यो में लगाया गया है। इसके अलावा गोताखोरों की टीमों को भी इस काम में लगाया गया है।

बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए आर्थिक मदद के निर्देश

महाराष्ट्र में हो रही लगातार बारिश और बाढ़ के हालात को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। ‌समीक्षा बैठक के दौरान सीएम ने अधिकारियों को बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए खाद्य पदार्थ, पीने का पानी और अन्य जरूरत के समानों को मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। साथ ही उन्होंने अधिकारियों को बाढ़ से निपटने के लिए भी निर्देश दिए।

15,000 लोगों सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया गया

कोल्हापुर के अावासी उप कलक्टर संजय ‌शिंदे ने कहा कि कोल्हापुर के 1,234 में से लगभग 204 गांव बुरी तरह बाढ़ की चपेट में हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि यहां लगभग 51, 000 लोग प्रभावित हुए हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि राहत बचाव के कार्य में जुटी नौसेना की टीम ने 15,000 लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया है। शिंदे ने कहा कि बाढ़ का पानी उनके कार्यालय में भी घुस गया है।

राहत बचाव के कार्यो में जुटी 45 से ज्यादा नाव

संजय शिंदे ने बताया कि भारी बारिश और बाढ़ का प्रभाव लोगों के जनजीवन के साथ कोल्हापुर के यातायात पर भी पड़ा है। यहां करीब 342 पुल डूब गए हैं जिससे की यहां के लोगों को आने जाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही उन्होंने बताया कि पूरे महाराष्ट्र में करीब 29 राज्य राजमार्ग पर भी असर पड़ा है जबकि प्रदेश की मुख्य 56 सड़कें भी बंद पड़ी हैं। मुंबई और बेंगलुरु को जोड़ने वाली राष्ट्रीय राजमार्ग 4 तथा कोल्हापुर-रत्नागिरी राजमार्ग आज भी बंद है। वहीं अधिकारियों ने कहना है कि बाढ़ पीड़ित लोगों को बचाने के लिए करीब 45 से अधिक नावों को लगाया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टोक्‍यों ओलंपिक में खिलाड़ियों का पूरा समर्थन करेगा देश : कोविंद

नयी दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि 24 जुलाई से नौ अगस्त तक आयोजित 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व आगे पढ़ें »

बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी पहुंचीं जयपुर साहित्य महोत्सव में, लेखन चुनौतियों का जिक्र किया

जयपुरः ओमान की लेखिका एवं बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी के लिए लेखन का सबसे दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण पहलू समाज में मौजूद अनसुनी और आगे पढ़ें »

ऊपर