भारतीय हैं सबसे ज्यादा आलसी : रिपोर्ट 

नई दिल्ली : भारतीय इतने आलसी हैं कि वे अपने सेहत का ख्याल भी नहीं रख पाते, यह बात एक नए रिसर्च  में सामने आई है। एक्टिव न होना, किसी काम को टालना और काम में आलस, ये सब शामिल है। सबसे बड़ी समस्या यहां अपनी फिटनेस को लेकर आलस करने से है। लोग एक्टिव नहीं हैं और न ही पूरी नींद लेते हैं। यह बात फिटबिट की एक रिपोर्ट  में सामने आई है, इस स्टडी में 18 देशों को शामिल किया गया था।

भारतीय कम एक्टिव
फिटबिट की स्टडी के मुताबिक भारत सबसे कम एक्टिव देशों में से एक है और 18 देशों की लिस्ट में भारत सबसे नीचे है। ब्रिटेन, अमेरिका, जापान, सिंगापुर में लोग ज्यादा एक्टिव रहते हैं, जबकि भारत में ऐसा नहीं है।

कम चलते हैं भारतीय
एक्सरसाइज रोज करना स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है, लेकिन भारत में लोग रोजाना औसत सिर्फ 6533 कदम ही चलते हैं, जो बाकी देशों के मुकाबले 3600 कदम कम है। मिनटों में तुलना करें तो एवरेज एक्टिव मिनट सिर्फ 32 ही रहते हैं।

नींद भी लेते हैं कम
डब्ल्यूएचओ के मुताबिक इंसान के लिए नींद सबसे ज्यादा जरूरी है। भारत दुनिया का दूसरा ऐसा देश है, जहां सबसे कम नींद ली जाती है। हर भारतीय औसत 7 घंटे 1 मिनट की नींद लेता है। जो ब्रिटेन के यूजर्स से 48 मिनट कम और अमेरिका के यूजर्स से 32 मिनट कम है। यानी भारत में लोगों को नींद से जुड़ी समस्याएं बहुत ज्यादा हैं। इसका कारण स्ट्रेस, स्लीप डिसऑर्डर, आरामदायक माहौल, काम का प्रेशर, घर के हालात या वर्क कल्चर कुछ भी हो सकता है। सबसे ज्यादा सुखभरी नींद लोग आयरलैंड में लेते हैं, जहां एक व्यक्ति औसत 7 घंटे 57 मिनट की नींद लेता है।

स्टडी के मुताबिक एक एवरेज भारतीय 77 मिनट की आरईएम स्लीप लेता है जो जापान के बराबर ही है। आरईएम स्लीप यानी रैपिड आई मूवमेंट स्लीप। ये लोगों की भावनाओं के लिए, याद्दाश्त के लिए, शरीर में प्रोटीन की मात्रा को सही रखने के लिए भी और शरीर के सेल सही रखने के लिए भी जरूरी है। नींद शरीर के कई कामों को सही रखने के लिए जरूरी है, लेकिन भारतीयों को ये कम मिलती है। ये कई स्टेज में होती है और नेशनल स्लीप फाउंडेशन के मुताबिक एक व्यक्ति को कम से कम 90 मिनट की आरईएम स्लीप बेहद जरूरी है। तनाव और स्वास्थ्य संबंधित कोई भी समस्य नींद की वजह से हो सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य को निभाएं : राज्यपाल

कोलकाता : राज्यभर में नागरिकता संशोधित कानून (कैब) के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन और हिंसा के बीच ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर