सरकार को कर आतंकवाद रोकना चाहिए : मनमोहन सिंह

सोची समझी रणनीति से ही भारत बनेगा 5 हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था
जयपुर : पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उदारीकरण की नीतियों पर खड़े किये गये आर्थिक सुधारों को जारी रखने की जरूरत पर बल देते हुए शनिवार को कहा कि एक सोची समझी रणनीति से ही भारत को पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाया जा सकता है। वे यहां एक निजी विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गरीबी, सामाजिक असमानता, सांप्रदायिकता व धार्मिक कट्टरवाद तथा भ्रष्टाचार लोकतंत्र के समक्ष कुछ प्रमुख चुनौतियां हैं। इस समय हमारी अर्थव्यवस्था धीमी पड़ती दिखती है। जीडीपी वृद्धि दर में गिरावट आ रही है। निवेश की दर स्थिर, किसान संकट में व बैंकिंग प्रणाली संकट का सामना कर रही है। बेरोजगारी बढ़ रही है। सरकार को कर आतंकवाद रोकना चाहिए, भिन्न विचारों की आवाजों का सम्मान करना चाहिए और सरकार के हर स्तर पर संतुलन लाना चाहिए। देश में लोकतंत्र की जड़ों को मजबूत करने की वकालत करते हुए सिंह ने कहा कि लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए आने वाले समय में सिद्धांतवादी, ज्ञानी और दूरदर्शी नेताओं की जरूरत है। लोकतंत्र की शक्ति संविधान में निहित है और राजनीतिक दलों को संविधान में उल्लेखित मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्धता जतानी होगी। हमारी एकता बनी रहे इसके लिए जरूरी है कि सरकार न्याय, स्वतंत्रता व समानता के साथ-साथ ऐसा वातावरण दे, जो भिन्न विचारों का सम्मान करता हो। हमें हमेशा अपराध और भ्रष्टाचार को कम करने, विधिसम्मत शासन को मजबूत करने तथा विकास के एक इंजन के रूप में निवेश के लिए अनुकूल माहौल बनाने के उद्देश्य से काम करना चाहिए। सिंह को जेकेएलयू लॉरेट अवार्ड 2019 से सम्मानित किया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

2025 तक पांच लाख करोड डॉलर की इकोनॉमी का लक्ष्य प्राप्त करना संभव नहीं : पूर्व गवर्नर सी रंगराजन

नई दिल्ली : देश के 200 से अधिक अर्थशास्त्री और शिक्षाविदों ने सरकार पर आर्थिक आंकड़े जारी करने को कहा है। अर्थशास्त्री के समूह ने आगे पढ़ें »

देश के पहले मोबिलिटी फेस्टिवल में भविष्य के वाहनों की झलक दिखी

नई दिल्ली: भविष्य के व्यापार और वाहनों के लिए देश के पहले मोबिलिटी मिशन फेस्टिवल का पिछले दिनों नई दिल्ली में ईएमपीआई और नीति आयोग आगे पढ़ें »

ऊपर