श्रद्धा कपूर भी जूझ रही हैं डिप्रेशन से, जानिए इस बीमारी से कैसे निपटती हैं

नई दिल्ली : डिप्रेशन जैसी बीमारी का शिकार फिल्म स्टार्स भी हो चुके हैं। श्रद्धा कपूर भी डिप्रेशन में एक समय रह चुकी हैं।  उन्होंने हाल ही में इस बात का खुलासा किया है। श्रद्धा के जीवन में एक समय ऐसा भी आया था, जब वह चिंता और तनाव का शिकार हुई थीं। श्रद्धा कपूर ने इस बारे में बताते हुए कहा कि उन्होंने जीवन के संघर्ष को ‘गले लगाना’ सीखा है। एक्ट्रे स ने कहा है कि भले ही वह पूरी तरह से ठीक नहीं है, लेकिन उसने इसे अपनी लाइफ के हिस्से के रूप में स्वीकार कर लिया है।

छिछोरे फिल्म के प्रमोशन के दौरान पिंकविला को दिए इंटरव्यू में श्रद्धा कपूर ने बताया कि शुरू में उन्हें भी समझ नहीं आया कि वह क्या झेल रही है। मुझे यह भी नहीं पता था कि चिंता क्या होती है।  बहुत लंबे समय तक इस बारे में जानकारी नहीं थीं। आशिकी 2 फिल्म के ठीक बाद मुझे चिंता के ये शारीरिक लक्षण दिखाई दिए। मैंने फिजिकली एंग्जाइटी को महसूस किया। मुझे दर्द हो रहा था, लेकिन टेस्टं में किसी तरह की बात सामने नहीं आई। हमने बहुत सारे टेस्ट कराए, लेकिन रिपोर्ट्स नार्मल था। ये अजीब था, क्योंकि मैं बार-बार सोच रही थी कि मुझे ये दर्द क्यों हो रहा है।

क्या करती हैं श्रद्धा
श्रद्धा कपूर ने बताया कि आज भी मैं इस चीज (एंग्जाइटी) से निपट रही हूं, लेकिन अब मैं इससे निपटने के लिए पहले से अच्छी स्थिति में हूं। इस बीमारी को पहले आपको स्वीकार करना होता है और इससे आप बहुत प्यार से निपटिए। आपको समझने की जरूरत है कि आप कौन हैं या आप किस बात के लिए खड़े हैं। श्रद्धा ने पहली बार 2018 में चिंता से जुड़ी अपनी हिस्‍टरी के बारे में बात की थीं। उन्होंने कहा कि मुझे पिछले तीन से चार वर्षों से चिंता की परेशानी हैं और यह कुछ ऐसा है, जिसे मैं रोजाना पॉजिटीव तरीके से हैंडल कर रही हूं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

करीमपुर उपचुनाव से होगा बंगाल विधानसभा के विजय का आगाज : विजयवर्गीय

नदियाः नदिया के करीमपुर विधानसभा उपचुनाव से बंगाल विधानसभा पर विजय का आगाज होगा, शनिवार शाम करीमपुर के महिषबथान में गांधी संकल्प यात्रा को केंद्र आगे पढ़ें »

बीजीबी की फायरिंग में बीएसएफ जवान की मौत की घटना दुर्भाग्यजनक : शुभेन्दु अधिकारी

मुर्शिदाबाद : मुर्शिदाबाद के जलंगी में बीजीबी की फायरिंग में बीएसएफ जवान की मौत की घटना दुर्भाग्यजनक। परिवहन मंत्री और तृणमूल के जिला पर्यवेक्षक शुभेन्दु आगे पढ़ें »

ऊपर