भारत के इन लड़ाकू विमानों की जोड़ी के आगे टिक नहीं सकेंगे दुश्मन

पेरिस : फ्रांस के मोंट डे मार्सन एयरबेस पर भारत और फ्रांस की वायुसेना का संयुक्त अभ्यास चल रहा है। इस अभ्यास को ‘गरुड़’ नाम दिया गया है। भारतीय वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल आर के एस भदौरिया ने गुरुवार को इंडो-फ्रेंच एयरफोर्स अभ्यास के दौरान कहा कि फ्रांस के राफेल और रूस के सुखोई- 30 फाइटर जेट की जोड़ी युद्ध की स्थिति में पाकिस्तान और अन्य दुश्मनों के लिए मुसीबत बनेगी।

पाक हमले को दोहराने की हिम्मत नहीं करेगा

भदौरिया ने एक न्यूज एजेंसी से की गई बातचीत के दौरान कहा कि “दोनों फाइटर जेट के इंडियन एयरफोर्स में शामिल होने के बाद पाकिस्तान 27 फरवरी जैसे हमले को दोहराने की हिम्मत नहीं करेगा।” साथ ही उन्होंने कहा कि राफेल और सुखोई की जोड़ी पाक को अधिक क्षति पहुंचाने में पूरी तरह से सक्षम है।” उनका यह भी कहना था कि ये विमान बहुत ही ताकतवर हैं। वाइस चीफ एयर मार्शल भदौरिया ने राफेल में उड़ान भरने के अनुभव को याद करते हुए कहा कि “यह अनुभव सुखद था और मुझे इससे काफी कुछ सीखने को मिला।”   उनका कहना है कि वायुसेना के युद्धक बेड़े में इन दोनों विमानों के शामिल होने के बाद एयरफोर्स की ताकत में और इजाफा होगा।”

एफ-16 एलओसी के पास फटकने की हिम्मत नहीं करता

दरअसल, पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) पर हुए हमले में भारत ने 40 जवानों को खो दिया था। इसके बाद भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को दर्जन भर मिराज 2000 लड़ाकू विमानों को लेकर बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। इस दौरान वायुसेना ने जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी  ठिकानों को बम बरसाकर पूरी तरह तबाह कर दिया था। भारतीय कार्रवाई से बौखलाए पाकिस्तान ने अगले ही दिन 27 फरवरी को जवाबी कार्रवाई के लिए 2 एफ-16 विमानों को भेजा। इन लड़ाकू विमानों कश्मीर में नियंत्रण रेखा पार करने के बाद भारतीय वायुसेना के मिग-21 और सुखोई-30 विमानों ने उन्हें खदेड़ दिया। इस घटना के बाद वायुसेना की ओर से कहा गया था कि यदि हमारे पास राफेल होता तो एफ-16 एलओसी के पास फटकने की हिम्मत नहीं करता।

दुनिया के बेहतरीन लड़ाकू विमानों में गिना जाता है

मालूम हो कि भारत ने 36 राफेल विमान खरीदने के लिए वर्ष 2016 में फ्रांस से सौदा किया है। फ्रांस के फाइटर जेट राफेल को जमीन से हवा और हवा से हवा में सटीक मारक क्षमता के कारण दुनिया के बेहतरीन लड़ाकू विमानों में गिना जाता है। ‌इन दिनों भारतीय और फ्रांसिसी वायुसेना आपसी सहयोग बढ़ाने के लिए संयुक्त रूप से अभ्यास कर रही हैं।

गौरतलब है कि इसी महीने भारत में नियुक्त फ्रांस के राजदूत अलेक्जेंडर जीगलर ने कहा था कि भारत को पहला राफेल लड़ाकू विमान अगले दो महीनों के अंदर सौंप दिया जाएगा और यह बिल्कुल समय पर मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा था कि भारतीय वायुसेना को सभी 36 राफेल लड़ाकू विमान अगले दो साल में सौंप दिए जाएंगे। फ्रांस के राजदूत ने राफेल के बारे में कहा कि “यह एक शानदार विमान है। इसे भारत ने चुना, जिससे हम सम्मानित महसूस कर रहे हैं। मुझे लगता है कि यह भारतीय वायुसेना की क्षमता को बहुत ज्यादा बढ़ाएगा।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

Dhanush Howitzer

स्वदेशी होवित्जर तोप ‘धनुष’ सेना में शामिल, 50 किमी तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम

नई दिल्ली : भारतीय सेना ने अपनी शक्ति को और बढ़ाने के लिए स्वदेशी होवित्जर तोप 'धनुष' को सेना में शामिल किया है। इसके लिए आगे पढ़ें »

भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर दो साल के निचले स्तर पर आया : आरबीआई

नई दिल्ली : आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर लगभग दो साल के निचले स्तर पर आ गया है, क्योंकि आगे पढ़ें »

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

ऊपर