बदलती जीवनशैली के कारण बढ़ रही हैं ये बीमारियां, ऐसे रहें स्वस्थ

नई दिल्ली : एक बार शरीर को बीमारियां होनी शुरू हो जाएं तो बढती ही जाती है, लेकिन लाइफस्टाइल में थोड़ा बदलाव करके जटिल बीमारियों से भी बचा जा सकता है। हाल के कुछ सालों में लाइफस्टाइल के कारण कुछ बीमारियां बढ़ी हैं।

कैंसर से बचें 
दुनियाभर के देशों के लिए कैंसर भयानक बीमारियों में से एक है। विकसित देशों में भी कैंसर के काफी मामले सामने आते हैं। आंकड़ों के मुताबिक संयुक्त राज्य में हर रोज 4 में से 1 की मौत कैंसर के कारण होती है। कैंसर के अधिकांश प्रकारों से बचने के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव और खानपान पर ध्यान देने को कहा जाता है। पैक्ड फूड कैंसर के जोखिम को बढाते हैं। ताजा सब्जियों और फलों में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो कैंसर की संभावना को कम करते हैं । एवोकाडो, फ्लैक्स सीड्स, हाई फाइबर सामग्री वाले दालों को कैंसर के प्रभाव को कम करने के लिए जाना जाता है। लहसुन, ऑलिव, हल्दी, अदरक और मछली जैसे अन्य उपभोग्य पदार्थों को भी कैंसर के उपचार के जोखिम और दुष्प्रभावों को कम करने के लिए पहचाना गया है।

टाइप-2 डायबिटीज
यह भी भयानक बीमारियों में से एक है। यह लाइफस्टाइल डिजीज के रूप में जाना जाता है। फास्ट फूड, रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट, कैंडी, सोडा, प्रोसेस्डी फूड और ड्रिंक का अधिक सेवन डायबिटीज का कारण माना गया है। ताजे और कच्चे फलों और सब्जियों का सेवन करने से इस बीमारी के प्रभाव को कम किया जा सकता है। पत्तेदार सब्जियों और नट्स को बीमारी के प्रभाव को कम करने के लिए जाना जाता है। दिन में कम से कम 6 घंटे तक सोने से टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कम होता है।

ऑटिज्म
इस बीमारी में दिमाग को नुकसान पहुंचता है। यह बीमारी बच्चों में पाई जाती है। आहार में विटामिन, आयरन और मैग्नीशियम की अधिक मात्रा को शामिल करके, छोटे बच्चों में ब्रेन के विकास को बढ़ाया जा सकता है, जिससे ऑटिज़्म का खतरा कम होता है। ग्लूटेन-फ्री और कैसिइन फ्री डाइट भी काफी हद तक मदद करती है। दिमाग के विकास के लिए मछली औऱ नट्स को भोजन में शामिल करें।

हार्ट डिजीज
फास्ट फूड लेने से कोलेस्ट्रॉल के लेवल और दिल के ब्लॉक होने का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन मछली के सेवन से इसे कम किया जा सकता है। फिश में ओमेगा 3 फैटी एसिड का हाई लेवल में होता है जो हार्ट संबंधी विकारों और बीमारियों से प्रभावित होने के जोखिम को कम करने के लिए जाना जाता है। फिश की दो सर्विंग खाने से ब्लड में फैट का लेवल कम हो सकता है और आपको आसानी से जोखिमों से बचने में मदद मिल सकती है। डाइट में फलों, सब्जियों और फलियों को अधिक से अधिक मात्रा में शामिल करें। भरपूर नींद लेने से भी ब्लड प्रेशर लेवल कम होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर