निर्मला… इंदिरा के बाद पहली वित्त मंत्री

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया। जिसमें निर्मला सीतारमण को वित्त मंत्रालय सौंपा गया है। 50 साल बाद इस विभाग का जिम्मा किसी महिला के पास है। इंदिरा गांधी ने 1969-1970 में वित्त मंत्रालय अपने पास रखा था। निर्मला सीतारमण उन महिला नेताओं में से एक हैं जो बेहद कम समय में राजनीति के शिखर तक पहुंची हैं।
पेशे से अर्थशास्त्री और समाज सेविका
निर्मला सीतारमण पेशे से अर्थशास्त्री और समाज सेविका भी हैं। वह देश की कई महिलाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं। उनका जन्म 18 अगस्त 1959 को तमिलनाडु के मदुरै में हुआ था। उनके पिता नारायण सीतारमण भारतीय रेलवे में कार्यरत थे और इसी वजह से उनका बचपन राज्य के विभिन्न शहरों में बीता। उन्होंने सीतालक्ष्मी रामास्वामी कॉलेज से बीए किया, जिसके बाद उन्होंने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से एमए इकोनॉमिक्स की डिग्री हासिल की। साथ ही उन्होंने जेएनयू से एमफिल किया।
2008 में भाजपा में शामिल हुईं
निर्मला सीतारमण 2003 से 2005 तक नेशनल कमिशन फॉर वुमन की सदस्य भी रह चुकी हैं। वह 2008 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुईं और उन्होंने पार्टी के प्रवक्ता के पद पर कार्य किया। भाजपा के प्रवक्ताओं के रूप में निर्मला सीतारमण अक्सर टीवी चैनलों पर नजर आने लगीं। 2014 में उन्हें मोदी सरकार की कैबिनेट में शामिल किया गया। 2016 में निर्मला सीतारमण राज्यसभा की सदस्य बनीं।
सुखोई-30 लड़ाकू विमान में उड़ान भरी थी
निर्मला सीतारमण ने 17 जनवरी 2018 को सुखोई-30 लड़ाकू विमान में उड़ान भरी थी। निर्मला सीतारमण पहली महिला रक्षा मंत्री रहीं, जिन्‍होंने लड़ाकू विमान में उड़ान भरी। इससे पहले 25 नवंबर 2009 में तीनों सेनाओं के सुप्रीम कमांडर के तौर पर पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल पुणे में सुखोई में उड़ान भर चुकी हैं।
राफेल मामले पर जमकर किया था पलटवार
लोकसभा चुनाव से पहले जब विपक्ष ने मोदी सरकार को राफेल मामले पर घेर लिया था तब संसद में जवाब देते हुए निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस पर जमकर पलटवार किया। संसद में दिया उनका भाषण लोगों को बेहद पसंद आया और देखते ही देखते उनके भाषण का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर