तो इस धिनौने काम के लिए मुस्लिमों को मार रहा है चायना

बीजिंगः चीन में जेल की सलाखों के पीछे जो घिनौना काम हो रहा है उससे मानवता स्तब्‍ध है। मानव अंगों की मांग को पूरा करने के लिए चीन जेल में बंद कैदियों के शरीर का सहारा ले रहा है। यह बात एक स्वतंत्र ट्रिब्यूनल की रिपोर्ट में सामने आई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन अंगों के प्रत्यारोपण के लिए कैदियों की हत्या कर रहा है। इस काम के लिए वह उईगर मुस्लिमों सहित अन्य अल्पसंख्कों को शिकार बना रहा है। लंदन स्थित चाइना ट्रिब्यूनल की रिपोर्ट में मुख्य रूप से उनलोगों को शिकार बनाए जाने की बात कही है जो फालुन गोंग आंदोलन से जुड़े रहे हैं।

शरीर से अंगों को निकाल लिया जाता है

ट्रिब्यूनल की रिपोर्ट बताती है कि चीन में मानव अंगों के प्रत्यारोपण का गोरखधंधा चलाया जा रहा है। ताज्जुब की बात तो यह है कि इस गोरखधंधे को रोकने ने लिए ना तो कोई आवाज उठा रहा है और ना ही इसका विरोध किया जा रहा है। ‌रिपोर्ट के अनुसार अमीरों की आवश्यकता पूरी करने के लिए कैदियों को बेमौत मारकर उनके शरीर से अंगों को निकाल लिया जाता है और किसी को कानोंकान इसकी भनक तक नहीं लगती। इस धंधे को उजागर करने वाले चाहते हैं कि इस क्रूरता को खिलाफ एकजुटता से चीन पर दबाव डाला जाए।

जरूरत के हिसाब से होती है कैदियों के अंगों की बुकिंग

नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित अन्वेषक पत्रकार एथन गटमैन ने इस संबंध में बेहद चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। गटमैन का कहना है कि जेल में अधिकतर ऐसे कैदियों को मारा जाता है जो आध्यात्म से जुड़े हुए होते हैं। उन्होंने कहा कि वे मानते हैं ऐसे कैदियों के अंग ज्यादा स्वस्‍थ होंगे और उनको अच्छे दामों में बेचा जा सकेगा। इस काम में सबसे ज्यादा शांतिपूर्ण बुद्ध सिद्धांतों पर अभ्यास करने वाले फालुन गोंग आन्दोलन से जुड़े लोगों को चुुना जाता है। कैदियों को मारकर उनके अंगों को निकालने से पहले उनके महत्वपूर्ण आंकड़े दर्ज कर लिए जाते हैं जैसे ब्लड ग्रुप, वर्तमान में अंगों की दशा आदि। उनका कहना है कि अमीरों की जरूरत के हिसाब से कैदियों के अंगों की बुकिंग भी होती है।

अज्ञात और अनाम कैदी बनते हैं शिकार

चीन में अंगों के लिए मारे जाने वाले कैदियों में सबसे पहले उन्हेें निशाने पर रखा जाता है जिनका कोई रिकॉर्ड ना हो। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि उन्हें मारने के बाद उन्हें किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े। रिपोर्ट में सामने आया है कि अज्ञात और अनाम कैदी सबसे पहले चीनी क्रूरता का शिकार होते हैं। कई फालुन गोंग अभ्यासी तो इस डर से अब पहचान भी छिपाने लगें हैं कि इस घिनौनी साजिश का अगला शिकार उनको ही ना बनना पड़े।

बता दें अंग प्रत्यारोपण के संबंध में चीन का कहना है कि देश में ऐसे मामलों पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। लेकिन चाइना ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष की मानें तो फिलहाल इसके कोई सबूत नहीं मिले कि कैदियों से जबरन अंग निकाला जाना बंद हो गया है। उनका कहना है कि इस बात पर कोई शक नहीं है कि ये अभी भी जारी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर