खुशहाल जीवन चाहती हैं तो अत्यधिक सोचने की आदत को बदल डालिए

नई दिल्ली : जिंदगी जीने के तरीके सबके अलग है। कोई हर मुश्किल में खुश रहता है तो कोई जरा सी बात में घबरा जाता है। दुख और सुख दोनों जिंदगी में साथ साथ चलता है, बस अलग सबके जिने और समझने का तरीका होता है। जिन लोगों को जिंदगी से बहुत शिकायतें होती है, ऐसे लोग हमेशा जीवन में परेशान रहते हैं और एक तनाव महसूस करते हैं। ऐसे लोग ऑफिस और घर की जिम्मेदारियों को लेकर कुछ सोचते रहते हैं और तनाव में रहते हैं।

दरअसल यह दिमाग की एक अवस्था है, यह स्थिति लगातार बढ़ते बढ़ते ओवर थिंकिंग की समस्या पैदा हो जाती है। हालांकि इस समस्या को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

ईयरफोन के अधिक इश्तेमाल से हो सकती है कई बीमारियां, पढ़ें

सबसे पहले वहम पालना छोड़ दें
इस समस्या को कम करने के लिए सबसे पहले वहम पालना बिलकुल बंद कर दे। किसी चीज को ज्यादा ना सोचें, इस से मन सें नकारात्मकता बढ़ती जाती है और निराशा जन्म लेता है। सुख रहने की वजह तो भी इंसान खुश नहीं रह पाता। किसी भी नकारात्मक विचार को अपने ऊपर हावी न होने दें। एकांत में ना रहें, दोस्त बनाएं। दोस्त बनाए, उनकी बातें सुनें, अपने मन की बातें करें, छोटे छोटे पलों को जीएं।

अगर करियर को लेकर परेशान होते हैं और फेलियर से डरते हैं तो इसके बजाए खुद को अपडेट रखें और हमेशा अपने स्कील को बढ़ाते रहें। साथ ही अपने अच्छे कामों के लिए खुद को कॉम्पलिमेंट करते रहें। अपने नाकामियों को कामयाबी में बदलने के लिए लगातार मेहनत करें।

ओवरवेट लड़कियों के लिए प्रेरणादायक है सारा की जर्नी, इस तरह कम किया 46 किलो वजन

इग्नोर करना सीखें
आपको हमेशा सोचने की आदत है तो इस आदत को बदल लें और अपने मन को अच्छे कामों में लगाएं। डिप्रेशन को कम करने के लिए नेचर और बच्चों के करीब रहें। ओवर थिंकिंग की आदत को बदलने के लिए म्यूजिक का सहारा लें। इस तरह आप किसी भी नकारात्मक विचार को अपने ऊपर हावी न होने दें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कांग्रेस प्रवक्‍ता राजीव त्‍यागी का न‍िधन

नयी दिल्‍ली : भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्‍ता राजीव त्‍यागी का निधन हो गया है। बुधवार शाम एक टीवी डिबेट के दौरान उन्‍हें हर्ट अटैक आगे पढ़ें »

पीसीबी और बीसीसीआई में किसी भी तरह का मनमुटाव नहीं : अहसान मनी

नई दिल्ली : पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन अहसान मनी का कहना है कि पीसीबी और बीसीसीआई के प्रशासकों के बीच रिश्ते अच्छे हैं। लेकिन आगे पढ़ें »

ऊपर