अयोध्या पहुंचकर शिवसेना प्रमुख ने किए रामलला के दर्शन, मोदी से की मंदिर निर्माण की मांग

अयोध्या : महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टी शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रविवार को अपने 18 सांसदों के साथ अयोध्या पहुंच कर रामलला के दर्शन किए। साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से शीध्र राम मंदिर का निर्माण करवाए जाने की मांग की। इस दौरान उनके पुत्र आ‌दित्य ठाकरे भी साथ रहे। मालूम हो कि महाराष्ट्र में इसी वर्ष विधान सभा चुनाव होने हैं।
मंदिर निर्माण में देरी की गुंजाइश नहीं
सात महीने में दूसरी बार अयोध्या पहुंचे उद्धव ने राम मंदिर निर्माण को लेकर कहा कि यह शिवसेना ही नहीं, बल्कि देश के हिंदुओं की आस्था का भी प्रश्न है। साथ ही उन्होंने मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद भरोसा जताया कि अब मंदिर निर्माण में देरी की गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि आगामी संसद अधिवेशन के बाद सकारात्मक परिणाम आएगा।

ठाकरे और शिवसेना के सांसदों को अतिथि का दर्जा
उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा को लेकर शिवसेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि आम चुनाव के बाद उनकी यात्रा से वहां भव्य राम मंदिर निर्माण की प्रतिबद्धता को और अधिक मजबूती मिलेगी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी शुक्रवार को रामलला के अस्थायी मंदिर पहुंच कर पूजा अर्चना की थी। साथ ही शिवसेना के नेता संजय राउत ने भी रामलला के दर्शन किए थे। उन्होंने इसके बाद योगी मुलाकात भी की थी। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने ठाकरे और शिवसेना के सांसदों को राज्य अतिथि का दर्जा दिया है।

उद्धव ठाकरे के दौरे को लेकर सुरक्षा कड़ी
अयोध्या के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शिवसेना नेताओं के आगमन को लेकर सुरक्षा व्यवस्‍था को और अधिक पुख्ता कर दिया गया। साथ ही यहां आने वाले लोगों की सघन तलाशी ली जा रही है। होटलों और धर्मशालाओं में ठहरने वाले लोगों पर भी पुलिस कड़ी निगाह रख रही है।

भगवान राम का धन्यवाद करने के लिए आए

वहीं शिवसेना की उत्तर प्रदेश ईकाई के अध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि ठाकरे ने लोकसभा चुनाव से पहले कई धार्मिक स्‍थलों के दर्शन किए थे। उन्होंने कहा कि चुनाव में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया है इसलिए ठाकरे भगवान राम का धन्यवाद करने के लिए आए हैं।

बता दें कि उद्धव ठाकरे ने गत 24 नवंबर को पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य के साथ दो दो दिनों के लिए अयोध्या पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने रामलला के दर्शन किए थे। साथ ही सरयू आरती में भी शाामिल हुए थे। उनका कहना था कि चुनाव आते ही सब राम-राम करते हैं, उसके बाद आराम करते हैं। साथ ही उनका कहना था कि मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार अध्यादेश लाए। शिवसेना प्रमुख ने यह भी कहा था कि 2019 में सरकार बने या न बने, मंदिर जरूर बनना चाहिए।

गौरतलब है कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्थल का मामला फिलहाल शीर्ष न्यायालय में लंबित है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

द. कोरिया में तूफान से कई घायल

सियोलः दक्षिण कोरिया में आए एक शक्तिशाली तूफान से 26 लोग घायल हो गए जबकि करीब 27,780 घरों की बिजली चली गई। अधिकारियों ने सोमवार आगे पढ़ें »

कार्बेट टाइगर रिजर्व में एक बाघिन की मौत

देहरादूनः उत्तराखंड के कार्बेट टाइगर रिजर्व में एक बाघिन की मौत हो गई। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि उसकी मौत कैसे हुई। फिलहाल, आगे पढ़ें »

ऊपर