ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, खुल जाएंगे किस्मत के दरवाजे

कोलकाता : शारदीय नवरात्रि के नौ दिनों का अपना अलग महत्व है। इन 9 दिनों में मां दुर्गा के अलग स्वरूपों की पूजा बड़ी ही श्रद्धा भाव से की जाती है और माता से घर की सुख समृद्धि की प्रार्थना की जाती है। इस साल शारदीय नवरात्रि का आरंभ 26 सितंबर को हुआ है और पहले दिन मां शैलपुत्री का पूजन होता है। वहीं दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी को समर्पित होता है और उनका पूजन भी बड़े ही विधि विधान के साथ कुछ नियमों का पालन करते हुए किया जाता है। हम आपको पूरे नौ दिनों में माता के अलग स्वरूपों की पूजा विधि के बारे में बता रहे हैं।
ब्रह्मचारिणी का अर्थ
मां ब्रह्मचारिणी के नाम में ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का आशय हुआ तप का आचरण करने वाली। भगवान शिवजी से विवाह हेतु प्रतिज्ञाबद्ध होने के कारण इन्हें माता ब्रह्मचारिणी का नाम दिया गया है। ऐसी मान्यता है कि मां जगदंबा का ब्रह्मचारिणी स्वरूप काफी शांत, सौम्य और तेजोमय है। उनके बाह्य स्वरुप की बात करें तो माता ब्रह्मचारिणी अपने दाहिने हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल धारण करती हैं।
मां ब्रह्मचारिणी पूजा विधि
शारदीय नवरात्रि के सौरान मां ब्रह्मचारिणी की पूजा बहुत ही शास्त्रीय विधि से की जाती है और उनकी पूजा हमेशा शुभ मुहूर्त में ही करने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है। माता ब्रह्मचारिणी की पूजा के लिए प्रातः जल्दी उठें और साफ वस्त्र धारण करके पूजन करें। माता की तस्वीर या मूर्ति एक चौकी (माता की चौकी सजाने का तरीका) पर रखें और उन्हें पीले या सफेद वस्त्रों से सुसज्जित करें। माता को सबसे पहले पंचामृत से स्नान कराएं, इसके बाद रोली, अक्षत, चंदन आदि अर्पित करें। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में गुड़हल या कमल के फूल का ही प्रयोग करें। घी और कपूर से बने दीपक से माता की आरती उतारें और दुर्गा सप्तशती, दुर्गा चालीसा का पाठ करें। मां दुर्गा का ये दूसरा और सबसे दिव्य माना जाता है।
मां ब्रह्मचारिणी के लिए भोग
मां ब्रह्मचारिणी को मुख्य रूप से शक्कर का भोग लगाना चाहिए। इससे व्यक्ति को दीर्घायु का आशीर्वाद मिलता है और आरोग्य प्राप्त होता है। ऐसा करने से  परिवार के लोगों में सुख शांति बनी रहती है और घर में सुख समृद्धि का वातावरण बना रहता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक में फेक कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार

विधाननगर : साल्टलेक और न्यूटाउन में कुकुरमुत्ते की तरह फर्जी कॉल सेंटर का व्यवसाय फैल गया है। आये दिन पुलिस की ओर से अभियान चलाकर आगे पढ़ें »

टेट 2014 : 824 की अवैध नियुक्ति, हाई कोर्ट में रिट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट में दायर एक रिट में आरोप लगाया गया है कि 2014 के टेट में अवैध नियुक्तियां दी गई हैं। इसकी आगे पढ़ें »

ऊपर