इस तरह करें भगवान गणपति की पूजा, जमकर बरसेगी कृपा, पूर्ण होगी हर इच्छा

कोलकाता : 1 अगस्त यानी कि सोमवार को श्रावण शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस चतुर्थी को वैनायकी गणेश चतुर्थी भी कहते हैं। गणेश भक्तों के लिए इस दिन का विशेष महत्त्व है। मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश की साधना करने से वो शीघ्र प्रसन्न होते हैं और मनोवांछित फल प्रदान करते हैं।
मंगल कार्य के लिए गणेश पूजा आवश्यक
भगवान गणेश विघ्ननिवारण के लिए तो प्रसिद्ध हैं ही, प्रत्येक कामना भी इनकी उपासना से पूर्ति होती है। भारत का सनातन मतावलम्बी कोई भी व्यक्ति हो किसी ना किसी रूप में भगवान गणेश की पूजा करता ही रहता है। देवों की पूजा या किसी अन्य मंगल कार्य करते समय इनकी पूजा आवश्यक होती है।
इस तरह करें पूजा
अगर कोई वास्तव में भगवान गणेश से शुभ-लाभ की आशा और समस्त कष्ट समाप्त करने की इच्छा करता है तो उसे उनकी प्रिय तिथि चतुर्थी पर विशेष पूजा करनी चाहिए। एक साल तक प्रत्येक चतुर्थी तिथि पर अगर भगवान गणेश की पूजा की जाए तो सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। पूजा प्रारंभ करने से पहले उनका निम्न मंत्र से ध्यान करें – गजाननं भूत गणादि सेवितं, कपित्थ जम्बू फल चारू भक्षणम्। उमासुतं शोक विनाशकारकम्, नमामि विघ्नेश्वर पाद पंकजम् ॥।
भोलेशंकर का भी मिलेगा आशीर्वाद
इसके बाद ‘ॐ गं गणपतये नम:’ मंत्र का कम से कम एक माला का जाप करें। जाप करते समय भगवान गणपति का ध्यान करें। अगर निरंतर यह प्रक्रिया अपनाई गई तो भगवान की कृपा अवश्य ही प्राप्त होती है। इसके अलावा गणेश गायत्री का ‘ॐ एकदंताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात’ महामंत्र भी शीघ्र फलदायक है। इस बार की गणेश चतुर्थी, श्रावण शुक्ल पक्ष के सोमवार को पड़ रही है। सोमवार उनके पिता शिव का दिन माना जाता है। ऐसे में इस दिन किया गया रूद्राभिषेक और गणेश साधना विशेषरूप से फलदायी है, क्योंकि भक्त को पिता-पुत्र का आशीर्वाद एक साथ मिल जाएगा।

 

Visited 203 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

आईएसपीएल को लेकर उत्साहित हैं बॉलीवुड सितारे, सैफ-अभिषेक ने …

मुंबई : इंडियन स्ट्रीट प्रीमियर लीग (आईएसपीएल) जल्द ही लोगों का मनोरंजन करने के लिए शुरू होने जा रहा है। दर्शकों को इस टेनिस बॉल आगे पढ़ें »

लोकसभा चुनाव से पहले लागू होगा CAA ?

नई दिल्ली: देश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) जल्द लागू हो सकता है। सूत्रों के अनुसार, लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता जारी होने आगे पढ़ें »

ऊपर