महिलाएं जरूर करें ये काम, कभी नहीं होगी पैसों की कमी

कोलकाता : जन्मपत्रिका में मनुष्य के भविष्य के संकेत छिपे होते हैं। लेकिन कई ऐसे लोग है जिनके पास जन्मपत्रिका नहीं है वहीं कई ऐसे लोग है जो मेहतन तो करते है मगर लाभ नहीं मिलता है। कई लोग अक्सर कर्ज के जाल में फंस जाते हैं। योग्यता के बाद भी तरक्की नहीं मिलती। कारोबार अच्छा नहीं चलता। यदि ऐसा कुछ है और पति की तरक्की चाहिए तो पत्नी को उपाय करना होगा। पत्नी पूजा-पाठ करती है तो उसका पुण्य उसके पति को भी मिलता है। ज्योतिष में कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं जो स्त्री करती है तो उसके पति का दुर्भाग्य दूर हो सकता है। कुछ ऐसे उपाय जो महिला को करना है, जिससे उसके पति को भाग्य का साथ मिल सकता है आइये जानते है वह उपाय …
भोजन के उपाय
* भोजन की थाली को हमेशा पाट, चटाई, चौक या टेबल पर सम्मान के साथ रखें।
* खाने की थाली को कभी भी एक हाथ से न पकड़ें। ऐसा करने से खाना प्रेत योनि में चला जाता है।
* भोजन करने के बाद थाली में ही हाथ न धोएं।
* थाली में कभी जूठन न छोड़ें।
* भोजन करने के बाद थाली को कभी किचन स्टैंड, पलंग या टेबल के नीचे न रखें, ऊपर भी न रखें।
* रात्रि में भोजन के जूठे बर्तन घर में न रखें।
* भोजन करने से पूर्व देवताओं का आह्वान जरूर करें।
* भोजन करते वक्त वार्तालाप या क्रोध न करें।
* परिवार के सदस्यों के साथ बैठकर भोजन करें।
* भोजन करते वक्त अजीब-सी आवाजें न निकालें।
* रात में चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से लक्ष्मी का निरादर होता है अत: समृद्धि चाहने वालों को तथा जिन व्यक्तियों को आर्थिक कष्ट रहते हों, उन्हें इनका सेवन रात के भोजन में नहीं करना चाहिए।
* भोजन सदैव पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके करना चाहिए। संभव हो तो रसोईघर में ही बैठकर भोजन करें इससे राहु शांत होता है। जूते पहने हुए कभी भोजन नहीं करना चाहिए।*
सुबह कुल्ला किए बिना पानी या चाय न पीएं। जूठे हाथों से या पैरों से कभी गौ, ब्राह्मण तथा अग्नि का स्पर्श न करें।
घर की सफाई
* कभी भी ब्रह्ममुहूर्त या संध्याकाल को झाड़ू नहीं लगाना चाहिए।
* झाड़ू को ऐसी जगह रखें, जहां किसी अतिथि की नजर न पहुंचे।
* झाड़ू को पलंग के नीचे न रखें।* घर को साफ-सुथरा और सुंदर बनाकर रखें।
* घर के चारों कोने साफ हों, खासकर ईशान, उत्तर और वायव्य कोण को हमेशा खाली और साफ रखें।
* वॉशरूम को गीला रखना आर्थिक स्थिति के लिए बेहतर नहीं होता है। प्रयोग करने के बाद उसे कपड़े से सुखाने का प्रयास करना चाहिए।
* दक्षिण और पश्चिम दिशा खाली या हल्का रखना करियर में स्थिरता के लिए शुभ नहीं है इसलिए इस दिशा को खाली न रखें।
* घर में काले, कत्थई, मटमैले, जामुनी और बैंगनी रंग का इस्तेमाल न करें चाहे चादर, पर्दे या हो दीवारों का रंग।
* घर में सीढ़ियों को पूर्व से पश्चिम या उत्तर से दक्षिण की ओर ही बनवाएं। कभी भी उत्तर-पूर्व में सीढ़ियां न बनवाएं।
* घर में फर्श, दीवार या छत पर दरार न पड़ने दें। अगर ऐसा हो तो उन्हें तुरंत भरवा दें। घर में दरारों का होना अशुभ माना जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक बेटी के लिए दूसरी को बेचा 10000 में

नई दिल्ली : किसी भी इंसान के लिए उसकी हर संतान समान महत्व रखती है लेकिन गरीबी के सामने व्यक्ति लाचार हो जाता है। कुछ आगे पढ़ें »

हिन्दी नाट्य उत्सव को खूब सराहा लोगों ने

‘नाटक तो पहले भी देखे हैं, मगर ऐसा नहीं देखा’ सन्मार्ग संवाददाता सिलीगुड़ी : शुक्रवार को सिलीगुड़ी के दिनबंधु मंच पर पश्चिम बंग हिन्दी अकादमी के सहयोग आगे पढ़ें »

ऊपर