…पीरियड्स से करने लगेंगी प्यार

कोलकाता : जब भी पीरियड आता है तो आपको बहुत चिढ़ होती है और आप यही मनाती हैं कि यह जितनी जल्दी हो सके, खत्म हो जाए। पीरियड्स के साथ ढेरों नकारात्मक विचार भी मन में आते हैं। यह आपको दर्द देता है, आपको मूडी बना देता है लेकिन पीरियड्स में कुछ सकारात्मक गुण भी छिपे हैं। इसलिए अगली बार जब भी पीरियड्स आएं तो इन्हें सोचें….
आप एक स्वस्थ महिला हैं: अगर आप बहुत ज्यादा तनाव में हैं, बहुत ही ज्यादा पतली हैं या मोटी हैं, आपको किसी भी तरह की हार्मोनल बीमारी है तो आपके पीरियड्स गायब हो जाएंगे। इसलिए अगर आपका पीरियड सामान्य रूप से आता है तो आप खुद पर गर्व करें क्योंकि आप एक स्वस्थ महिला हैं और हेल्दी लाइफ स्टाइल जी रही हैं।
निकलते हैं बैक्टीरिया बाहर: पीरियड्स आने पर भले ही आपको गंदा लगता है लेकिन असल में यह आपकी अंदर से सफाई करता है। इससे शरीर से वे बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं जिनकी आपको जरूरत नहीं है। इन बैक्टीरिया के बाहर निकलने की वजह से स्ट्रोक, अल्जाइमर्स और दिल संबंधी बीमारियों का खतरा कम होता है।
आप गर्भवती नहीं हैं : कई बार आप और आपके पति परिवार सीमित रखने परिवार नियोजन के साधन अपनाते हैं। आप दोनों चाहते हैं कि आपके बच्चों में एक सुरक्षित अंतर रहे, ऐसे में पीरियड्स का आना आपके लिए निश्चितंता ला सकता है क्योंकि पीरियड्स के आने का मतलब है कि आप गर्भवती नहीं हैं और आपको प्रेग्नेंसी टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है।
लाता है साथ : आप दफ्तर में बैठी हैं, तभी आपकी कोई सहयोगी आपके पास आती है और चुपके से आपके कान में कहती है कि उसे सैनेटरी पैड की जरूरत है। इसी तरह की स्थिति किसी अनजान जगह पर भी पैदा हो सकती है।
भले ही आप ऐसी स्थिति में फंस जाएं या कोई और आपसे मदद मांगे, आप एकदूसरे की मदद जरूर करेंगे। यह ऐसी परिस्थिति होती है, जब एक महिला, दूसरी महिला की मदद के लिए सहर्ष तैयार हो जाती है। एक बार मुश्किल घड़ी में की गई यह छोटी-सी मदद नए रिश्ते को जन्म देती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुबह उठकर दोनों हाथों की ‘हथेलियों’ को देखने से भी बदलती है किस्मत

कोलकाता : सुबह उठकर हाथों की हथेलियों को देखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा प्रतिदिन करने से जीवन में मान सम्मान प्राप्त होता आगे पढ़ें »

आज से भक्तों के लिये खुल जायेंगे दक्षिणेश्वर मंदिर के कपाट

कोलकाता : कोलकाता के कालीघाट व मायापुर मंदिर के खुलने के बाद कोरोना के घटते ग्राफ को देखते हुए गुरुवार यानी आज से दक्षिणेश्वर मंदिर आगे पढ़ें »

ऊपर