दिवाली के दिन क्यों हर घर में बनती है सूरन या जिमीकंद की सब्जी, जान लें वजह

कोलकाताः आपके घर में सूरन या जिमीकंद की सब्जी आम दिनों में कम ही बनती होगी लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि दिवाली के दिन ज्यादातर घरों में इसकी सब्जी क्यों बनाई जाती है। खासकर उत्तर प्रदेश के अधिकतर घरों में दिवाली के दिन सूरन या जिमीकंद की सब्जी अनिवार्य रूप से बनाई जाती है। इस खबर में हम सालों से चली आ रही इस प्रथा के पीछे की असल वजह जानेंगे।

कहां से आई यह परंपरा?

ऐसा माना जाता है कि हिंदू धर्म में सूरन की सब्जी का चलन बनारस यानी काशी से शुरू हुआ। बनारस के हर घर में दिवाली के दिन सूरन सब्जी अनिवार्य रूप से बनती है। सूरन ऐसी सब्जी है जो आलू के जैसे ही मिट्टी के नीचे उगती है। इसकी जड़ को जमीन से निकालते वक्त उसके कुछ अंश जमीन में रह जाता है जिससे अगली दिवाली तक दोबारा सूरन तैयार हो जाता है। दिवाली के दिन इसकी सब्जी बनाने की प्रथा को घर की खुशहाली और प्रगति से जोड़कर देखा जाता है। इसका एक और बड़ा कारण ये है कि सूरन की पैदावार दिवाली के समय ही होती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पंचायत चुनाव : गांवों की सड़कों को किया जाएगा सपाट

राज्य सरकार ने जारी किया 714 करोड़ 50 लाख रुपया केंद्र ने हाल ही में दिया है 584 करोड़ का फंड सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत आगे पढ़ें »

किस्मत से जुड़ा होता है गुलाब का फूल, वास्तु के ये उपाय बनाएंगे आपको धनवान

कोलकाता : हमारे जीवन में जिस तरह पेड़-पौधों का महत्व है, उसी तरह फूलों का भी विशेष महत्व होता है। घर को महकाने से लेकर आगे पढ़ें »

ऊपर