खून नहीं चूसने के बावजूद क्यों आपके पास मंडराते हैं मच्छर, यह दिलचस्प बात

कोलकाता : आपके कान के पास भिनभिनानेवाले मच्छर हमेशा तकलीफदेह होते हैं, लेकिन उनका आपको परेशान करने का कोई इरादा नहीं होता। विशेषकर नर मच्छर, क्योंकि ये इंसानों का खून नहीं चूसते हैं। इंसानी खून को चूसकर संक्रमित करने का काम मादा मच्छर करते हैं, जिसकी वजह से खतरनाक बीमारियां जैसे डेंगू बुखार और मलेरिया फैलती हैं। नई रिसर्च से दिलचस्प हकीकत का खुलासा हुआ है। पता चला है कि नर मच्छर मंडराने के लिए इंसानों की तरफ आकर्षित होते हैं।
इंसानों को कैसे नर मच्छर ढूंढ लेते हैं?
वैज्ञानिकों का कहना है कि नर मच्छर इंसानों को मात्र 10 मीटर की दूरी से ढूंढ लेते हैं। उन्होंने इसका कारण कार्बन डाइऑक्साइड बताया है। चूंकि इंसान ऑक्सीजन लेते हैं और कार्बनडाइऑक्साइड हवा में छोड़ते हैं। मच्छरों को कार्बनडाइऑक्साइड का एहसास हो जाता है और उसके स्रोत की तलाश के चक्कर में इंसानों तक कुछ सेकंड में ही पहुंच जाते हैं और काटने लगते हैं। हालांकि, इंसानों को काटने का काम सिर्फ मादा मच्छर करते हैं। नर मच्छर अपनी भूख मिटाने के लिए फूलों के रस पर निर्भर करते हैं।
आपके प्रति आकर्षित होते हैं मच्छर
Journal of Medical Entomology में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक बावजूद इसके कि नर मच्छर इंसानों का खून नहीं चूसते हैं, लेकिन ये मादा मच्छरों से आपको परेशान करने में कम नहीं हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि अभी तक यही माना जाता था कि नर मच्छर इंसानों के पास नहीं मंडराते हैं, लेकिन ऐसा मामला नहीं है। ये हाल के रिसर्च में साबित हुआ है, लेकिन उनकी रुचि और उसे जाहिर करने का कारण बिल्कुल अलग है। रिसर्च से ये भी पता चला है कि मादा मच्छर इंसानों का खून चूसने के बाद उड़ जाते हैं।
इंसानों तक नर मच्छरों के पहुंचने और खून नहीं चूसने के सवाल पर रोशनी डालते हुए वैज्ञानिकों ने बताया कि इसके पीछे मादा मच्छरों की तलाश एक वजह हो सकती है। आम तौर से मादा मच्छर खून चूसने के लिए इंसानों के इर्द गिर्द चक्कर लगाते हैं, इसलिए नर मच्छर प्रजनन के लिए उस जगह के आसपास घूमते हैं। हालांकि, उन्होंने अभी और रिसर्च की जरूरत बताई है ताकि पता लगाया जा सके कि इसका ज्यादा सही कारण क्या है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सिंदूर खेला के बाद नम आंखों से विदा किया गया मां दुर्गा को

एकादशी के दिन भी कई पूजा पण्डालों के पास उमड़ी भीड़ कोलकाता : ‘बोलाे दुर्गा माई की...जय, आसछे बोछोर आबार होबे’ के नारों से विभिन्न विसर्जन आगे पढ़ें »

ऊपर