कब रजिस्टर्ड डायटीशियन से मिलना चाहिए ?

 

टिप्स

जब पहली बार यह पता चले कि आपको डायबिटीज है, जब एक नया डॉक्टर आपके उपचार का तरीका बदल दे तब, अथवा वर्ष में दो बार अपने आहार के तौर तरीकों की समीक्षा के लिए आपको किसी रजिस्टर्ड डायटीशियन से मिलना चाहिए। इसके अलावा उस स्थिति में मिलना चाहिए जब –

– आप डायबिटीज नियंत्रित करने की स्थिति में सुधार लाना चाहते हों।

– आपकी जीवनशैली या दिनचर्या में कोई बदलाव हुआ हो जैसे नया जॉब हो, शादी होने वाली हो, गर्भाधान हो।

– आपकी पोषण संबंधी जरूरतें बदलती रहती हों (बच्चों के लिए)

– आपने कोई व्यायाम शुरू किया हो या डायबिटीज की दवाओं में कोई बदलाव हुआ हो।

– आप अपनी आहार योजना से ऊब चुके हों, हताश या निरुत्साहित हो चुके हों।

– आपके रक्त शर्करा का स्तर अकारण ही ज्यादा या कम हो जाता हो।

– अपने वजन और रक्त वसा के स्तर को लेकर चिं​तित हों।

– आपको पोषण संबंधी कुछ जटिलताएं महसूस होने लगी हों जैसे उच्च रक्तचाप या गुर्दे संबंधी बीमारी।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

tmc

बौखला उठे हैं भाजपा प्रवक्ता, मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ रहे हैं

तृणमूल को बांग्लादेशी पार्टी कहा, प्रवक्ता को बंगलादेशी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जैसे - जैसे विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है वैसे - वैसे भाजपा में बौखलाहट आगे पढ़ें »

मुख्यमंत्री के साथ हुए व्यवहार पर नरेंद्र मोदी ने एक शब्द नहीं कहा – तृणमूल

पीएम के रवैये पर तृणमूल ने जताया खेद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ममता आगे पढ़ें »

ऊपर