शुक्रवार के दिन इस रंग के कपड़े पहनने से होगी लक्ष्मी जी की कृपा, बन जाएंगे धनवान

कोलकाता : शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को बेहद प्रिय है। इस दिन विशेषरूप से मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है। इतना ही नहीं, लक्ष्मी भगवान को धन-वैभव की देवी कहा जाता है। पौराणिक ग्रंथों में कहा गया है कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने से वे जल्दी प्रसन्न हो जाती हैं और भक्तों पर कृपा बरसाती हैं। जो व्यक्ति नियमित रूप से शुक्रवार के दिन मां वैभव लक्ष्मी के व्रत रखता है उसे जीवन में किसी भी तरह की धन संबंधी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता। हर देवी-देवता का कोई न कोई प्रिय कलर होता है। शुक्रवार के दिन मुख्य रूप से मां लक्ष्मी और शुक्र ग्रह को खुश करने के लिए उनकी पूजा का विधान है। आइए जानते हैं मां लक्ष्मी का प्रिय रंग कौन सा है, जिसे शुक्रवार के दिन धारण करने से धन संबंधी सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।
शुक्रवार को पहनें इस रंग के वस्त्र
– मान्यता है कि शुक्रवार के दिन गुलाबी रंग के वस्त्र पहनने से मां प्रसन्न हो जाती हैं। लक्ष्मी जी को गुलाबी रंग बेहद प्रिय है. गुलाबी वस्त्र धारण करने से उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है।
– धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है कि मां लक्ष्मी भाग्य की देवी भी होती हैं। ऐसा माना जाता है कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को चढ़ा हुआ इत्र लगाने और गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करने से सोया हुआ भाग्य पूर्ण रूप से जाग जाता है और घर में धन की कमी नहीं रहती।
– इतना ही नहीं, खुद वस्त्र धारण करने के साथ-साथ मां लक्ष्मी को भी गुलाबी रंग के वस्त्र अर्पित करने से घर में धन दौलत और वैभव की कमी नहीं होती।
– अगर आप किसी दिन व्यापार या आर्थिक सौदे के लिए जाते हैं तो उस दिन गुलाबी रंग के कपड़े पहन कर जाएं। कहते हैं कि ऐसा करने से बिगड़े हुए सौदे भी बन जाते हैं।
– सौम्यता और नारी शक्ति का प्रतीक है गुलाबी रंग। कहते हैं कि गुलाबी कपड़े पहनना से आपका व्यक्तित्व सौम्य और सहृदयी बनता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल सांसद नहीं गये नागालैंड

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के सांसद प्रनितनिधियों ने नागालैंड का अपना दौरा रद्द कर ​दिया। आज पार्टी के सांसद सुष्मिता देब, शांतनु सेन, अपरूपा पोद्दार आगे पढ़ें »

ऊपर