कहां है रसोई में पानी की सबसे शुभ जगह, वास्‍तु अनुसार इस जगह पर रखें पीने का पानी

कोलकाताः वास्तु शास्त्र के मुताबिक पानी, आग, हवा, आसमान, और पृथ्वी के लिए अलग-अलग जगह या दिशाएं बताई गई हैं। इसलिए हमें अपने घर में बताई गई चीजों की दिशाएं देखकर ही रखनी चाहिए। यदि हम ऐसा नहीं करते हैं तो हमें वास्तु दोष के कारण कई परेशानियों का भी सामना करना पड़ जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार पानी की सर्वाधिक शुभ जगह ईशान कोण माना गया है। इसलिए पानी को उसकी सही दिशा में ही रखना चाहिए। ऐसा करने से घर के सदस्यों का स्वास्थ्य अनुकूल रहता है और घर में भी सुख-शांति बनी रहती है।

वास्‍तु के अनुसार रसोई के ल‍िए ट‍िप्‍स : 

  • पानी के बर्तन को हमेशा उत्तर-पूर्व या पूर्व में भरकर रखना चाहिए।
  • पानी की सर्वाधिक शुभ जगह ईशान कोण है इसलिए पानी का भूमिगत टैंक या बोरिंग पूर्व, उत्तर या पूर्वोत्तर दिशा में होना चाहिए।
  • पानी को ऊपर की टंकी में भेजने वाला पंप भी पूर्व, उत्तर या पूर्वोत्तर दिशा में होना चाहिए।
  • वास्तु का संतुलन बनाने के लिए कुआं अथवा ट्यूबवेल उत्तर-पूर्व कोण के स्थान में होना चाहिए।
  • ओवर हेड टैंक उत्तर और वायव्य कोण के बीच होना चाहिए। टैंक का ऊपरी भाग गोल होना चाहिए।
  • दूसरी दिशा में ट्यूबवेल हो तो उसका प्रयोग न करें या उसे भरवा दें।
  • बाथरुम की दिशा पूर्व होनी चाहिए।
  • एक बात हमेशा ध्यान रखें घर के किसी भी नल से पानी नहीं रिसना चाहिए अन्यथा भुखमरी की स्थिति पैदा हो सकती है।
शेयर करें

मुख्य समाचार

..झाड़ियों में मिली एक दिन की बच्ची

हरियाणा : फतेहाबाद के गांव बरसीन के पास झाड़ियों में 1 दिन की नवजात बच्ची बोरे में मिली है। शुक्रवार सुबह राहगीरों ने झाड़ियों में आगे पढ़ें »

हैवानियत ने शर्मसार किया रिश्ते को : अपाहिज पत्नी के साथ जबरन बनाता था संबंध, प्राइवेट पार्ट में डालता था…

पानीपत : हरियाणा के पानीपत से पति-पत्नी के रिश्ते को शर्मसार करने वाली खबर सामने आई है। यहां एक पति ने अपनी पत्नी के साथ आगे पढ़ें »

ऊपर