क्या दिल्ली हिंसा के पीछे भी था शरजील का हाथ?

jnu

नई दिल्ली : भारत से उत्तर-पूर्व को अलग करने वाले विवादित बयान के मामले में शरजील इमाम की गिरफ्तारी के बाद भड़काऊ भाषण के साथ ही अब दिल्ली हिंसा के मामले को लेकर भी उससे पूछताछ की जाएगी। दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी ने 13 और 15 दिसंबर 2019 को दिल्ली के जामिया, जाकिर नगर और न्यू फ्रेंड्स कालोनी में हुई हिंसा में शरजील की भूमिका को लेेकर आशंका जताई है। दिल्ली पुलिस के अनुसार हिंसा की इन घटनाओं के पीछे शरजील के शामिल होने की संभावना है जिसके बारे में भी उससे पूछताछ की जाएगी।

ट्रांजिट रिमांड के बाद शरजील को ले जाया गया दिल्ली

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के डीसीपी राजेश देव ने भी इस बात की पुष्टि करते हुए बताया, ‘शरजील इमाम से संबंधित दो वी‌डियो प्राप्त हुए हैं जिनमें उसे प्रदर्शनकारियों के बीच भड़काऊ भाषण देते सुना जा सकता है। इन वीडियो की जांच भी की गई है और ये पूरी तरह दुरुस्त पाए गए हैं। मंगलवार को ही शरजील को ट्रांजिट रिमांड मिल चुका था जिसके बाद हमारी टीम उसे लेकर दिल्ली के लिए रवाना हो गई।’ बता दें कि डीसीपी राजेश देव 13 और 15 दिसंबर को जामिया, जाकिर नगर व न्यू फ्रेंड्स कालोनी में हुई हिंसा की जांच के लिए गठित की गई एसआईटी के प्रमुख भी हैं।

वीडियो से संब‌ंधित कई तथ्य सही, जांच जारी

एसआईटी प्रमुख देव के अनुसार, ‘देश काे बांटने वाले विवादित बयान के अलावा शरजील के अन्य मामलों में आरोपी होने की भी आशंका है। भड़काऊ भाषण के अलावा हम उससे बीते साल 13 और 15 दिसंबर को दिल्ली के जामिया, जाकिर नगर और न्यू फ्रेंड्स कालोनी में हुए फसाद-हिंसा को लेकर भी पूछताछ करेंगे। शरजील के भड़काऊ भाषण के जो वी‌डियो हमें मिले हैं, उससे संबंधित काफी कुछ तथ्य सही पाए गए हैं। हालांकि, वीडियो टेप की सत्यता जांच का विषय है। इस पर फिलहाल कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

आरएसएस प्रमुख की समझदारी पर सोनम ने उठाए सवाल, हुईं ट्रोल

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा तलाक को लेकर दिए गए बयान को फिल्म अभिनेत्री सोनम कपूर ने मूखर्तापूर्ण बताया है। सोनम ने आगे पढ़ें »

modis

मोदी और शाह को ‘आतंकवादी’ कहने पर मुस्लिम नेता के खिलाफ मामला दर्ज

सम्भल (उत्तर प्रदेश) : उत्तर प्रदेश में सम्भल जिले के नखासा क्षेत्र में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में आगे पढ़ें »

ऊपर